ब्रेकफास्ट न करना लॉन्ग टर्म में कई तरह से नुकसानदेह

शरीर में एनर्जी लेवल बना रहे और शरीर की सभी क्रियाएं ठीक ढंग से हों इसके लिए ज्यादातर लोग दिन में 2-3 बार खाना खाते हैं। इसमें सबसे जरूरी होता है सुबह का नाश्ता, क्योंकि रात के भोजन से मिली ऊर्जा और पोषक तत्वों को शरीर तमाम क्रियाओं में खर्च कर देता है, जिसके बाद उसे सुबह फिर से ऊर्जा की जरूरत पड़ती है, इसलिए हमें भूख लगती है। सुबह ऑफिस जाना हो, स्कूल जाना हो या फिर घर का ही काम क्यों न करना हो, अक्सर जल्दबाजी के कारण बहुत से लोग सुबह का नाश्ता नहीं करते। इसका शरीर पर तुरंत कोई प्रभाव भले न दिखे लेकिन ब्रेकफास्ट न करना लॉन्ग टर्म में शरीर के लिए कई तरह से नुकसानदेह साबित हो सकता है। कैसे आइए जानते हैं…
सिर दर्द की परेशानी
अगर आप अक्सर सुबह का नाश्ता छोड़ देते हैं तो आपके ब्लड में शुगर लेवल बहुत ज्यादा गिर जाता है क्योंकि आमतौर पर आपने 8-10 घंटे से कुछ नहीं खाया होता है। ब्लड शुगर का स्तर गिरने से आपके दिमाग में ऐसे हॉर्मोन्स का उत्सर्जन शुरू हो जाता है जो सिर दर्द और तनाव के लिए जिम्मेदार होते हैं।
टाइप 2 डायबीटीज का हाई रिस्क
जो लोग अक्सर सुबह का नाश्ता छोड़ देते हैं या जल्दबाजी में आधा-अधूरा करते हैं उन्हें टाइप 2 डायबीटीज का खतरा बहुत ज्यादा होता है। इससे आपका ब्लड शुगर लेवल प्रभावित होता है और ब्लड शुगर के प्रभाव से आपको डिप्रेशन, टेंशन और बेचैनी भी हो सकती है। ब्लड शुगर के एक स्तर से ज्यादा गिर जाने से शरीर में एनर्जी लेवल प्रभावित होता है और इसके परिणाम घातक हो सकते हैं।
दिनभर सुस्ती और थकान
अगर आप ब्रेकफस्ट छोड़ देते हैं तो दिनभर सुस्ती और थकान महसूस होगी। भले ही खाने में भरपेट भोजन कर लिया हो। सुबह के समय पेट पोषक तत्वों को अवशोषित करने के लिए तैयार होता है। अगर नाश्ता छोड़ देते हैं, तो इससे शरीर को दिन भर के काम के लिए ऊर्जा नहीं मिल पाती है और आपको दिनभर सुस्ती और थकान महसूस होती है।
शरीर हो सकता है थुलथुला
कई लोग सोचते हैं कि कम खाने या न खाने से मोटापा घटता है इसलिए वो डायटिंग करते हैं, लेकिन आपको बता दें कि नाश्ता छोड़ देने या आधा-अधूरा करने से आपका शरीर के थुलथुला होने की संभावना बढ़ जाती है। ये मोटापे से भी खराब है क्योंकि आमतौर पर मोटापे में आपका पेट निकलता है या शरीर की चर्बी बढ़ती है जबकि ब्रेकफस्ट छोड़ने से होने वाले थुलथुलेपन में आपका शरीर अंदर से कमजोर होता जाता है।
इम्यूनिटी होगी कमजोर
फिजिशन डॉ पूनम तिवारी कहती हैं, ब्रेकफस्ट करना सबसे जरूरी है। इससे शरीर में पूरे दिन एनर्जी बनी रहती है लेकिन नाश्ता नहीं करने से शरीर की इम्यूनिटी यानी रोगों से लड़ने की क्षमता कमजोर हो जाती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि भूखे रहने से आपके शरीर के अंदर की सेल्स डैमेज होने लगती है और शरीर पर वायरस, बैक्टीरिया, फंगस और संक्रमण से फैलने वाले रोगों का प्रभाव आसानी से पड़ सकता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »