North Korea की अमरीका को चेतावनी, प्रतिबंध रखे तो इरादा बदल सकता है

North Korea के नेता किम जॉन्ग उन ने कहा है कि वह परमाणु हथियारों को नष्ट करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं लेकिन उन्होंने अमरीका को चेताया कि अगर वह उनके देश पर अपने प्रतिबंध बरक़रार रखता है तो उनका इरादा बदल भी सकता है.
किम जॉन्ग उन ने यह नई बात अपने नए साल के देश के नाम संबोधन में कही है.
पिछले साल के भाषण के बाद उन्होंने अपने देश के संबंध दक्षिण कोरिया और अमरीका के साथ बेहतर किए थे. उनके इस कूटनीतिक क़दम को अभूतपूर्व बताया जा रहा था.
किम और अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने जून 2018 में परमाणु हथियार नष्ट करने को लेकर मुलाक़ात की थी लेकिन इसके अब तक कुछ ही परिणाम सामने आए हैं.
2017 में North Korea द्वारा परमाणु मिसाइल के परीक्षण के बाद अमरीका और उत्तर कोरिया के बीच तल्ख़ियां बढ़ गई थीं. North Korea का दावा था कि उसकी मिसाइल अमरीका तक जा सकती है जिसके बाद दोनों के बीच युद्ध तक छिड़ने की बात हो रही थी. इसके बाद दोनों में मेल-मिलाप हुआ.
किम ने क्या-क्या कहा
मंगलवार की सुबह सरकारी चैनल पर दिए अपने संबोधन में किम ने कहा, “अगर अमरीका पूरी दुनिया के आगे किए अपने वादे को नहीं निभाता है और हमारे गणराज्य पर दबाव और प्रतिबंध लगाता है तो हमारे पास अपने हित और संप्रभुता को सुरक्षित रखने के नए रास्ते का चयन करना होगा.”
उन्होंने कहा कि वह ट्रंप से कभी भी और किसी भी समय मिलने के लिए तैयार हैं.
North Korea के परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल हथियार कार्यक्रमों की वजह से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने उस पर कई प्रतिबंध लगाए हुए हैं.
पिछले साल North Korea ने रिश्ते संवारे
पिछले साल अपने नए साल के भाषण में घोषणा की थी कि उनका देश दक्षिण कोरिया में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक में भाग लेगा जिसके कारण दोनों देशों के संबंधों थोड़े मधुर हुए थे.
इसके बाद पिछले साल जून में ही किम जॉन्ग उन ने दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन के साथ अंतर-कोरियाई सीमा पर एक सम्मेलन में भाग लिया था.
वे दोनों दो बार मिले लेकिन पिछले साल की सबसे ख़ास मुलाक़ात किम और ट्रंप के बीच रही.
यह ऐतिहासिक सम्मेलन सिंगापुर में हुआ जहां उत्तर कोरिया और अमरीका के शीर्ष नेत मिले. ऐसा पहली बार था जब किसी उत्तर कोरिया के नेता ने अमरीकी राष्ट्रपति से मुलाक़ात की थी.
उस समय दोनों ने परमाणु हथियार नष्ट करने के लेकर साथ काम करने पर सहमति जताई थी.
इसके बाद उत्तर कोरिया ने अपने मिसाइल और परमाणु कार्यक्रम रोक दिए हैं लेकिन इसमें बहुत अधिक बदलाव नहीं हुआ है.
उत्तर कोरिया पर यह भी आरोप लग चुके हैं कि उसने अपने परीक्षण स्थलों को नष्ट नहीं किया है.
हालांकि, राष्ट्रपति ट्रंप की फ़रवरी में किम के साथ मुलाक़ात प्रस्तावित है लेकिन इसका सटीक वक़्त और जगह अभी तय नहीं है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »