उत्तर कोरिया परमाणु टेस्ट साइट्स बंद करना शुरू किया, दो दर्जन पत्रकार बने गवाह

उत्तर कोरिया के तानाशाह ने अपनी घोषणा पर अमल करते हुए अपनी परमाणु टेस्ट साइट्स बंद करना शुरू कर दिया है। मंगलवार को नॉर्थ कोरिया ने प्योंग-री परमाणु केंद्र को बंद किया और इस मौके के गवाह देश-विदेश से आए करीब दो दर्जन पत्रकार बने।
उत्तर कोरिया ने इस ऐतिहासिक पल का गवाह बनाने के लिए कई देशों से पत्रकार आमंत्रित किए थे लेकिन हैरानी की बात ये है कि उत्तर कोरिया ने प्योंग-री परमाणु केंद्र को को बंद करने के वक्त किसी विशेषज्ञ को नहीं बुलाया जबकि अमेरिका की मांग है कि उत्तर कोरिया को अपनी परमामु केंद्र स्थायी रूप से बंद करने होंगे।
गौरतलब है कि उत्तर कोरिया की दक्षिण कोरिया और अमेरिका से पिछले कुछ महीनों से चली आ रही अदावत के बीच परमाणु कार्यक्रम को बंद करने के ऑफर को रियायत के तौर पर देखा गया था। हालांकि, अमेरिका से सुधरते कूटनीतिक संबंधों के बीच उत्तर कोरिया ने एक बार फिर तल्खी दिखाई और धमकी दी कि वह 12 जून को तय राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की मुलाकात को रद कर सकता है।
दक्षिण कोरिया के पत्रकार नहीं बुलाए
उत्तर कोरिया ने परमाणु साइट्स को बंद करने जैसे महत्वपूर्ण वक्त पर करीब-करीब देशभर की सभी बड़ी एजेंसियों से पत्रकार बुलाए। इनमें सीएनएन, सीबीएस, रशिया टुडे और चीनी मीडिया भी शामिल है। लेकिन हैरानी की बात ये है कि उत्तर कोरिया ने दक्षिण कोरिया से कोई पत्रकार नहीं बुलाया। इस पर दक्षिण कोरिया ने नाराजगी जताई है।
पिछले महीने ही हुआ है शांति समझौता
गौरतलब है कि पिछले ही महीने उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच शांति समझौता हुआ है। जब उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन ने मुलाकात की। बता दें कि दोनों देशों के बीच युद्द तो 1953 में ही रुक गया था लेकिन लगातार संघर्ष बना हुआ है। पिछले महीने दोनों शासकों ने मुलाकात कर युद्धविराम को शांति समझौते में बदल डाला।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »