North Korea का अमेरिका को जवाब, नहीं करेंगे अपने रुख में बदलाव

North Korea के विदेश मंत्री री योंग ने कहा है कि अगर अमरीका अगले दौर की बातचीत की पेशकश करता है तब भी उनके देश के रुख़ में बदलाव नहीं होगा.
North Korea के विदेश मंत्री योंग वियतनाम में अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन की शिखर वार्ता के बाद मीडिया से बात कर रहे थे. ट्रंप और किम की बातचीत गुरुवार को बिना किसी समझौते के ख़त्म हो गई.
ट्रंप के मुताबिक़ अमरीका ने North Korea की ओर से की गई सभी प्रतिबंध हटाने की मांग को नामंज़ूर कर दिया लेकिन देर रात मीडिया से बात करते हुए उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री योंग ने कहा कि उत्तर कोरिया ने प्रतिबंधों को पूरी तरह ख़त्म करने की मांग नहीं की थी बल्कि उनमें आंशिक राहत देने की बात की थी.
योंग ने कहा कि उनके देश ने ‘वास्तविक’ प्रस्ताव रखे थे. इनमें यंगबिंयग परमाणु अनुसंधान केंद्र को अमरीकी पर्यवेक्षकों की निगरानी में पूरी तरह बंद करने का प्रस्ताव शामिल था.
उन्होंने कहा, “उत्तर कोरिया और अमरीका के बीच मौजूदा दौर में भरोसे के स्तर को देखते हुए ये प्रस्ताव परमाणु हथियार हटाने के लिए फिलहाल सबसे बड़ा उपाय था.”
योंग ने आगे कहा कि इसके बदले North Korea प्रतिबंधों में आंशिक ढील की मांग कर रहा था. इन प्रतिबंधों की वजह से “नागरिक अर्थव्यवस्था और हमारे लोगों के जीवन पर चोट पहुंच रही है.”
उन्होंने ये भी बताया कि उत्तर कोरिया ने परमाणु और लंबी दूरी के रॉकेटों के परीक्षण पर स्थायी रोक लगाने का प्रस्ताव भी रखा था. उत्तर कोरिया के विदेश मंत्री ने कहा कि आगे हनोई शिखर सम्मेलन जैसा दूसरा अवसर मिलना मुश्किल दिखता है.
योंग ने कहा, “अगर अमरीका भविष्य में दोबारा बातचीत का प्रस्ताव रखता है तब भी हमारे सैद्धांतिक रुख़ में बदलाव नहीं आएगा और हमारे प्रस्ताव कभी नहीं बदलेंगे.”
ट्रंप ने क्या कहा?
ये माना जा रहा था कि शिखर वार्ता के बाद ट्रंप और किम जोंग उन कोरियाई प्रायद्वीप से परमाणु हथियार हटाने के मामले में हुई प्रगति की जानकारी देंगे और समझौते पर दस्तख़त करेंगे.
लेकिन बातचीत के बाद ट्रंप ने कहा, “तमाम बातें महज़ प्रतिबंधों को लेकर थीं. वो चाहते थे कि प्रतिबंध पूरी तरह हटा दिए जाएं और हम ऐसा नहीं कर सकते.”
ट्रंप ने आगे कहा, “कई बार आपको चल देना पड़ता है और ये ऐसा ही मौका था.”
बाद में ट्रंप ने जापान और दक्षिण कोरिया को भरोसा दिलाया कि उत्तर कोरिया के साथ बातचीत आगे भी जारी रहेगी.
व्हाइट हाउस की प्रवक्ता सारा सैंडर्स के मुताबिक अमरीका वापसी के दौरान ट्रंप ने विमान से ही जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन से करीब 15-15 मिनट बात की.
इसी विमान में सवार अमरीकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि दोनों देशों के अधिकारी बहुत देर होने के पहले ही बातचीत को दोबारा बहाल करेंगे.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »