नोएडा अथॉरिटी का सुपरटेक भ्रष्टाचार: SIT की जांच का दायरा बढ़ा

सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट प्रोजेक्ट के टि्वन टावर खड़े करने में नोएडा अथॉरिटी द्वारा किए गए भ्रष्टाचार पर SIT की जांच का दायरा बढ़ गया है। अथॉरिटी की प्रारंभिक जांच में 7 अधिकारियों एवं कर्मचारियों के नाम सामने आए थे। इससे आगे एसआईटी की जांच बढ़ी है। सूत्रों की माने तो एसआईटी की जांच में अब 12 अधिकारी और कर्मचारियों के नाम सामने आए हैं और इनका कार्रवाई की जद में आना लगभग तय हो चुका है।
एसआईटी की जांच में नक्शा पास करने के लिए कमेटी बनाया जाना गलत नहीं पाया गया लेकिन कमेटी को जो अधिकारियों की पावर ट्रांसफर की गई, वह सवालों के घेरे में हैं। इसको लेकर पूर्व में अथॉरिटी में तैनात रहे दो आईएएस और एक पीसीएस अधिकारी के नाम भी एसआईटी की लिस्ट में शामिल हो गए हैं।
पावर ट्रांसफर की हो रही जांच
एसआईटी ने औद्योगिक विकास विभाग और शासन से इसको लेकर भी जानकारी मांगी है कि कोई भी प्रशासनिक अधिकारी किन परिस्थितियों में किस स्तर तक पावर ट्रांसफर कर सकता है। नोएडा अथॉरिटी में 2007 के पहले भी कमेटियां बनी हुई थीं लेकिन किसी भी कमेटी के निर्णय पर स्वीकृति की मुहर एसीईओ या सीईओ स्तर के अधिकारी से ही लगती थी।
लिस्ट में 7 नाम टॉप लिस्ट में शामिल
2013 से फिर वही व्यवस्था लागू हुई है। इसके साथ ही एसआईटी की सूची में वह 7 नाम सबसे ऊपर शामिल हैं, जो नोएडा अथॉरिटी के दोनों एसीईओ प्रारंभिक जांच कर सामने लाए थे। एसआईटी में शामिल अधिकारी भले कागजी कार्रवाई कर नोएडा से वापस हो गए हैं लेकिन जांच रिपोर्ट अभी पूरी तरह से तैयार नहीं हुई है।
अधिकांश हो चुके हैं रिटायर
सूत्रों की माने तो इसमें दो से तीन दिन का और भी समय लग सकता है। सूत्रों की माने तो एसआईटी एफआईआर को पहले आखिरी विकल्प के तौर पर देख रही थी लेकिन जिन भी जिम्मेदार अधिकारियों-कर्मचारियों के नाम सामने आ रहे हैं उनमें अधिकतर रिटायर हो चुके हैं इसलिए कार्रवाई क्या की जाए इस सवाल के जवाब में एफआईआर प्रमुख विकल्पों में शामिल हो चुका है।
बारिश के कारण नहीं उड़ पाया ड्रोन
सेक्टर-93 ए में टि्वन टावर बने हैं उनकी ड्रोन से फोटोग्राफी करवाई जा रही है। यह भी एसआईटी जांच का एक हिस्सा है। दो दिनों से मौके पर ड्रोन से टि्वन टावर की विडियो बनवाई जा रही थी और फोटो भी ली जा रही थी।
टावर के ऊपर से लिए जाने वाले व्यू से यह तय होगा कि टावर नंबर-16, 17 और पास के दूसरे टावर के बीच में दूरी कितनी है। शनिवार को पूरा दिन हुई बारिश की वजह से ड्रोन उड़ाया नहीं गया। रविवार को ड्रोन फोटाग्रफी और विडियोग्राफी के बचे हुए काम पूरे किए जाएंगे।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *