अफ़ग़ानिस्तान से अपने सैनिक बुलाने पर कोई अफ़सोस नहीं: अमेरिकी राष्ट्रपति

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि उन्हें अफ़ग़ानिस्तान से अपने सैनिक बुलाने पर कोई अफ़सोस नहीं है.
राष्ट्रपति बाइडन ने अफ़ग़ानिस्तान के नेताओं से एक होने का निवेदन करते हुए कहा कि वे ‘अपने राष्ट्र के लिए लड़ें.’
20 साल के सैन्य अभियान के बाद अमेरिकी फ़ौजें वापस जा रही हैं जिसके बाद अफ़ग़ानिस्तान में इस समय सुरक्षाबलों और तालिबान के बीच कई मोर्चों पर संघर्ष जारी है और तालिबान ने महत्वपूर्ण इलाक़ों को अपने क़ब्ज़े में ले लिया है.
तालिबान ने अब तक 34 प्रांतीय राजधानियों में से कम से कम 8 को अपने क़ब्ज़े में लिया है जबकि कई शहरों पर ख़तरा बना हुआ है.
व्हाइट हाउस में मंगलवार को पत्रकारों से बात करते हुए बाइडन ने कहा कि अमेरिका अफ़ग़ानिस्तान से किए गए वादों को बनाए हुए है. इनमें हवाई सहायता, सेना की तनख़्वाह और खाने-उपकरणों की अफ़ग़ान सुरक्षाबलों को सप्लाई शामिल है.
हालांकि, अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा: “उन्हें ख़ुद के लिए लड़ना होगा.”
लगातार तेज़ होती जंग
संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक़ बीते महीने तालिबान और सरकारी सुरक्षाबलों के बीच झड़प में अब तक 1,000 से अधिक आम नागरिक मारे जा चुके हैं. उसकी बाल एजेंसी यूनिसेफ़ ने इस सप्ताह चेताया है कि बच्चों के ख़िलाफ़ अत्याचार ‘दिन ब दिन बढ़ते ही जा रहे हैं.’
तालिबान ने बढ़त क़ायम रखते हुए मंगलवार को दो प्रांतीय राजधानियों फ़राह शहर और पुल-ए-ख़ुमरी पर क़ब्ज़ा कर लिया.
अधिकारियों का कहना है कि विद्रोहियों ने बग़लान प्रांत की राजधानी पुल-ए-ख़ुमरी के गवर्नर दफ़्तर और मुख्य चौराहे पर अपना झंडा फहरा दिया. यह प्रांत राजधानी काबुल से 200 किलोमीटर की दूरी पर है.
एक स्थानीय पत्रकार और प्रांतीय परिषद के सदस्य ने बीबीसी से कहा कि फ़राह का पश्चिमी शहर भी क़ब्ज़े में आ गया है.
तालिबान ने इस सप्ताह कुंदुज़ के महत्वपूर्ण उत्तरी शहर पर भी क़ब्ज़ा कर लिया था. इसको खनिज समृद्ध प्रांतों का एक दरवाज़ा समझा जाता है जो कि ताजिकिस्तान की सीमा के नज़दीक़ एक रणनीतिक रूप से अहम जगह है.
इस जगह का इस्तेमाल अफ़ीम और हेराइन की तस्करी के लिए भी किया जाता रहा है.
देश के अन्य हिस्सों में भारी जंग जारी है और अमेरिका और अफ़ग़ान विमान हवाई हमले कर रहे हैं.
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *