यूपीए कार्यकाल में surgical strike के कोई सबूत नहीं: रक्षा मंत्रालय

नई दिल्‍ली। आरटीआई के तहत रक्षा मंत्रालय से surgical strike को लेकर मांगे गए सवाल का जवाब में रक्षा मंत्रालय का कहना है कि उसके पास सिर्फ एक ही surgical strike का डाटा मौजूद है जो 2016 में उत्तरी कश्मीर के उरी में आतंकी हमले के जवाब में 29 सितंबर को किया गया था।

इंडिया टुडे की खबर के अनुसार लोकसभा चुनाव से पहले एक बार फिर देश में सर्जिकल स्ट्राइक की चर्चा छिड़ी हुई है. कांग्रेस ने पिछले दिनों दावा किया था कि यूपीए कार्यकाल के दौरान 6 सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी, लेकिन तत्कालीन सरकार ने इसकी चर्चा नहीं की, हालांकि इस दावे के उलट रक्षा मंत्रालय का कहना है कि 2016 से पहले भारतीय सेना की ओर से ऐसे किसी स्ट्राइक की सूचना उसके पास नहीं है. रक्षा मंत्रालय का यह बयान आरटीआई के तहत पूछे गए एक सवाल के जवाब में आया.

जम्मू के सूचना के अधिकार (आरटीआई) के एक कार्यकर्ता की ओर से मांगे गए सवाल के जवाब में रक्षा मंत्रालय का यह बयान कांग्रेस की अगुवाई में कई यूपीए नेताओं के दावों में विरोधाभास दिखाता है. कांग्रेस का कहना है कि उसके कार्यकाल के दौरान 6 सर्जिकल स्ट्राइक की गई लेकिन उसका इस्तेमाल कभी भी वोट के लिए नहीं किया गया.

सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर इन दिनों भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के नेताओं के बीच जारी जुबानी जंग के बीच इंडिया टुडे के पास आरटीआई के तहत रक्षा मंत्रालय से सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर मांगे गए सवाल का जवाब मौजूद है. रक्षा मंत्रालय का कहना है कि उसके पास सिर्फ एक ही सर्जिकल स्ट्राइक का डाटा मौजूद है जो 2016 में उत्तरी कश्मीर के उरी में आतंकी हमले के जवाब में 29 सितंबर को किया गया था.

2004 से 2014 के बीच कितने सर्जिकल स्ट्राइक?

जम्मू में रहने वाले आरटीआई कार्यकर्ता रोहित चौधरी ने रक्षा मंत्रालय में आरटीआई दाखिल करते हुए 2004 से 2014 के बीच सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में जानकारी मांगी थी. रक्षा मंत्रालय ने डीजीएमओ के जरिए जवाब दिया कि उसके पास सेना की ओर से किए गए एक ही सर्जिकल स्ट्राइक का आंकड़ा मौजूद है जिसे 29 सितंबर, 2016 में नियंत्रण रेखा के पार किया गया था.

आरटीआई कार्यकर्ता की ओर से यह आरटीआई 2018 में दाखिल की गई थी. इंडिया टुडे से बातचीत करते हुए रोहित चौधरी ने कहा कि कांग्रेस लोगों के सामने सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर झूठ बोल रही थी, यूपीए कार्यकाल के दौरान किसी भी तरह की स्ट्राइक नहीं की गई थी.

भारतीय सेना का अपमानः राहुल गांधी

हाल ही में कांग्रेस ने दावा किया था कि उसके कार्यकाल के दौरान 6 सर्जिकल स्ट्राइक किए गए थे, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका मजाक उड़ाया और सीमापार कांग्रेस के सर्जिकल स्ट्राइक के दावे को खारिज कर दिया. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी सर्जिकल स्ट्राइक पर शनिवार को मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि पूर्व सेना प्रमुख जनरल विक्रम सिंह ने कहा कि यूपीए सरकार ने 2008 से 2014 के बीच 6 सर्जिकल स्ट्राइक्स की और सर्जिकल स्ट्राइक्स की तारीखें भी बताई.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने यूपीए कार्यकाल के सर्जिकल स्ट्राइक को वीडियो गेम कहकर भारतीय सेना का अपमान किया है. उन्होंने आगे कहा कि सेना मोदी की निजी संपत्ति नहीं है. सर्जिकल स्ट्राइक भारतीय सेना ने किया न की कांग्रेस ने. लेकिन जब वह इसे वीडियो गेम कहते हैं तो वह भारतीय सेना का अपमान कर रहे होते हैं. रिकॉर्ड मौजूद है.

कुछ दिन पहले ही कांग्रेस के नेता कपिल सिब्बल ने दावा किया कि यूपीए कार्यकाल के दौरान 2011 में ऑपरेशन जिंजर के नाम पर सर्जिकल स्ट्राइक की गई. उन्होंने आगे कहा, ‘ऑपरेशन जिंजर, 2011 में हुई सर्जिकल स्ट्राइक झूठ नहीं है. सेना प्रमुख झूठ नहीं बोल सकते हैं, हम ये कहना चाह रहे हैं कि सर्जिकल स्ट्राइक जश्न मनाने की चीज नहीं है, यह अपने देश और सीमा को सुरक्षित रखने का जरिया है, लेकिन क्या ऐसा हो रहा है? मनमोहन सिंह ने कभी इसका ढिंढ़ोरा नहीं पीटा, लेकिन मोदी को देखिए, जवान मर रहे हैं, और वह इसका बखान कर रहे हैं.’

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »