मंत्रिमंडल में शामिल न होने पर नीतीश बोले: हमारी ऐसी कोई बात ही नहीं हुई

पटना। रविवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में जेडीयू को शामिल नहीं करने को लेकर बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने सोमवार को सफाई दी है। नीतीश ने कहा मंत्रिमंडल में शामिल होने को लेकर कोई बात ही नहीं हुई थी। बेवजह जेडीयू का नाम लिया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘जेडीयू से संबंधित जो भी बात होगी उसे मैं खुद ही सबको बता दूंगा।’
जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘यह बातें सूत्रों के हवाले से मीडिया में चली। मैं भी जानना चाहता हूं कि वह सूत्र कौन है?’ नीतीश ने आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा, ‘वह (लालू यादव) मेरा इलाज कहने की बात कर रहे हैं। हमें किसी के बयान पर बयान नहीं देना है। हम केवल काम करना चाहते हैं।’
बता दें कि रविवार को आयोजित शपथग्रहण समारोह में कुल 13 मंत्रियों ने पद और गोपनीयता की शपथ ली थी। इस फेरबदल में बीजेपी के सहयोगी दलों जेडीयू और शिवसेना से किसी को शामिल नहीं किया गया। पहले मीडिया में ऐसी खबरें थीं कि जेडीयू से दो लोगों को मंत्री बनाया जा सकता है, लेकिन फेरबदल में जेडीयू को शामिल नहीं किया गया।
गौरतलब है कि जुलाई में ही नीतीश कुमार महागठबंधन का साथ छोड़कर एनडीए में आए हैं। ऐसे में वह इन बातों को लेकर लालू प्रसाद यादव के निशाने पर रहते हैं। मंत्रिमंडल विस्तार में शिवसेना के भी किसी नेता को जगह नहीं दी गई है। इसको लेकर शिवसेना की नाराजगी की खबरें आईं थीं। शिवसेना ने शपथग्रहण समारोह का भी बहिष्कार किया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल के विस्तार के बाद आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि नीतीश कुमार को ठेंगा दिखाया गया है। लालू बोले, ‘जेडीयू को शपथग्रहण समारोह का निमंत्रण नहीं दिया गया। जो अपने लोगों को छोड़ता है उसे दूसरे लोग भी नहीं अपनाते।’
-एजेंसी