लंदन में नीरव मोदी की ज़मानत याचिका फिर खारिज

लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने एक बार फिर भारत के हीरा कारोबारी नीरव मोदी की ज़मानत याचिका ख़ारिज कर दी है.
भारत सरकार की तरफ़ से अदालत में पेश हुए वकील ने कहा कि अगर नीरव मोदी को ज़मानत मिलती है तो वो सबूतों और गवाहों को प्रभावित कर सकता है.
नीरव मोदी के वकील क्लेयर मोंटोगोमरी ने अदालत में बेल सिक्यॉरिटी के तौर पर 20 लाख पाउंड देने का प्रस्ताव रखा था. नीरव मोदी को इसी साल मार्च महीने में लंदन में गिरफ़्तार किया गया था.
मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक से क़रीब 13 हज़ार करोड़ रुपए का कर्ज़ लेकर न चुकाने का आरोप है. इसे भारत का सबसे बड़ा बैंक घोटाला भी माना जाता है.
भारत ने अगस्त में ब्रिटेन से नीरव मोदी को प्रत्यर्पित करने की मांग की थी. नीरव मोदी जनवरी 2018 से ब्रिटेन के London में रह रहा है.
ज़मानत याचिका ख़ारिज होने की क्या वजहें थीं
इस बात का पहले से अंदाज़ा था कि नीरव मोदी बेल सिक्यॉरिटी के तौर पर दिए जाने वाले पैसों को बढ़ाएगा और उसने ऐसा किया भी. उनकी तरफ से उनके वकील ने 10 लाख पाउंड से बढ़ा कर इसे सीधे 20 लाख पाउंड करने की पेशकश की.
जज एमा आर्बुथनॉट ने याचिका रद्द करने के पीछे तीन बड़े कारण बताए हैं.
पहला ये कि यूके में रहने वाले समुदाय के साथ नीरव मोदी के गहरे रिश्ते नहीं हैं. उनका कहना था कि यहां नीरव मोदी के निजी रिश्ते नहीं हैं जिस कारण उन्हें बेल दी जा सके.
दूसरा कारण जज ने बताया कि नीरव मोदी के ऊपर भारतीय बैंक से कर्ज़ का जो बोझ है वो इतनी बड़ी रकम है कि इसे नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता. उन्होंने इसे धोखाधड़ी का बहुत बड़ा मामला बताया.
जज का कहना था कि कर्ज़ की इस रकम के सामने बेल सिक्यॉरिटी के तौर जिस 20 लाख पाउंड की पेशकश नीरव मोदी ने की है वो ज़मानत याचिका स्वीकार करने के लिए नाकाफी है.
उन्होंने ये भी कहा कि उन्हें लगता है कि अगर नीरव की ज़मानत याचिका स्वीकार कर ली जाती है तो हो सकता है कि वो सरेंडर न करे यानी हो सकता है कि वो यहां से भाग जाए.
जज के फ़ैसले के बाद अब नीरव मोदी को वापिस वैंड्सवर्थ जेल ले जाया गया है. जज ने इसी साल उन्हें 30 मई की तारीख दी है जब उनके प्रत्यर्पण मामले की पहली सुनवाई होगी.
कौन हैं नीरव मोदी
नीरव मोदी भारत का चर्चित हीरा कारोबारी है. वो 2.3 अरब डॉलर की ज्वेलरी डिजाइनर कंपनी फ़ायरस्टार डायमंड का संस्थापक है और उसके ग्राहकों में दुनिया के जाने-माने लोग शामिल हैं.
नीरव डायमंड का कारोबार करने वाले परिवार से आता है और बेल्जियम के एंटवर्प शहर में उनका पालन-पोषण हुआ है.
युवा उम्र से ही उसकी दिलचस्पी आर्ट और डिजाइन में थी और वो यूरोप के अलग-अलग म्यूज़ियम में आता-जाता था.
इसके बाद भारत में जाकर बसने और डायमंड ट्रेडिंग बिज़नेस के सभी पहलुओं की ट्रेनिंग लेने के बाद साल 1999 में उसने फ़ायरस्टार की नींव रखी.
ये एक डायमंड सोर्सिंग और ट्रेडिंग कंपनी है. साल 2008 में नीरव के एक करीबी दोस्त ने उसे ईयररिंग बनाने को कहा.
साल 2010 में वो क्रिस्टी और सॉदबी के कैटालॉग पर जगह बनाने वाले पहले भारतीय ज्वेलर बना. साल 2013 में वो फ़ोर्ब्स लिस्ट ऑफ़ इंडियन बिलिनेयर में आया और तब से अपनी जगह बनाए हुए है.
नीरव मोदी कंपनी के आभूषण केट विंस्लेट, रोज़ी हंटिंगटन-व्हाटली, नाओमी वॉट्स, कोको रोशा, लीज़ा हेडन और ऐश्वर्या राय जैसे भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय स्टाइल आइकन पहनते हैं.
मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक से क़रीब 13 हज़ार करोड़ रुपए का कर्ज़ लेकर न चुकाने के आरोप हैं. इसे भारत का सबसे बड़ा बैंक घोटाला भी माना जाता है.
भारत ने अगस्त में ब्रिटेन से नीरव मोदी को प्रत्यर्पित करने की मांग की थी.
नीरव मोदी जनवरी 2018 से ब्रिटेन में रह रहा है.
-BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »