निरंकारी मिशन दे रहा है ब्रह्मज्ञान: हरविंद्र कुमार

मथुरा। संत निरंकारी मिशन विश्व के हर मानव को ब्रह्मज्ञान प्रदान कर रहा है। ब्रह्मज्ञान से ही मानव का कल्याण होता है।
उक्त विचार जोनल इंचार्ज संत श्री हरविंद्र कुमार अरोड़ा ने हाइवे नवादा स्थित संत निरंकारी सत्संग भवन पर आयोजित सत्संग में व्यक्त किए।
उन्होंने कहा कि मानव पांच तत्व पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु, आकाश से निर्मित एक पुतला है, जो परमात्मा के अंश आत्मा से चलता-फिरता है। मरणोपरांत पांचों तत्व अपने-अपने मूल में मिल जाते है, किन्तु आत्मा अपने मूल स्वरूप में न मिलने के कारण चौरासी लाख योनियों में भटकती है और जीव-जन्तु-पशुओं के रूप में शरीर धारण करती है।
निरंकारी संत श्री हरविंद्र ने कहा कि मरणोपरांत आत्मा अपने मूल में मिले तभी चौरासी लाख योनियों की भटकन से मुक्ति मिलेगी, इसके लिए मानव जीवन से बेहतर और कोई अवसर नहीं है। मानव इसी जन्म में सद्गुरु से ब्रह्मज्ञान प्राप्त कर अपने मूल स्त्रोत परमात्मा से मिल सकता है और आवागमन से मुक्ति प्राप्त कर सकता है।
जोनल इंचार्ज श्री अरोड़ा जी ने ग्रन्थों के उदाहरण देकर भी समझाया कि मानस जन्म दुर्लभ है, होत न बारम्बार, अतः मानव को चेतन होकर अपने इस जन्म को सफल करना होगा और सद्गुरु से अपने मूल स्त्रोत परमात्मा से नाता जोड़ना होगा।  उन्होंने कहा कि संत निरंकारी मिशन की मार्गदर्शक सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ब्रह्मज्ञान प्रदान कर हर मानव का कल्याण कर रहे हैं।
प्रवक्ता किशोर स्वर्ण ने बताया कि संत निरंकारी मिशन विश्वभर में 90 वर्षों से आध्यात्मिक जागरूकता अभियान चला रहा है। निरंकारी मिशन सत्य, ज्ञान, प्रेम और भाईचारे का संदेश देता है।
इस मौके पर अनेक वक्ताओं ने गीत-भजन एवं विचार व्यक्त किए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »