निकिता हत्याकांड: मुख्य आरोपी तौसीफ का मामा भी मोस्‍ट वॉंटेड अपराधी

फरीदाबाद। फरीदाबाद में निकिता हत्याकांड का मुख्य आरोपी तौसीफ राजनीतिक और आपराधिक बैकग्राउंड से आता है। उसका मामा इस्लामुद्दीन हरियाणा और दिल्ली का मोस्ट वॉंटेड बदमाश है, जिसने एक बार इंस्पेक्टर को ही किडनैप कर लिया था। तौसीफ ने अपने मामा के गैंग के गुर्गे से ही देशी तमंचा इस वारदात को अंजाम देने के लिए लिया था।
पुलिस ने बताया कि तौसीफ का मामा कुख्यात बदमाश है, जो इस वक्त जेल में सजा काट रहा है। पुलिस ने घटना में इस्तेमाल तमंचा, कार और दोनों आरोपियों के मोबाइल बरामद कर लिए हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि तौसीफ पॉलिटिकल और क्रिमिनल बैकग्राउंड से आता है। उसका मामा इस्लामुद्दीन हरियाणा और दिल्ली का कुख्यात बदमाश रहा है। उसने कई हत्याएं, लूट और किडनैपिंग की वारदातों को अंजाम दिया था। गुड़गांव में उसके मामा ने एक इंस्पेक्टर सुरेन्द्र को किडनैप किया था। इस मामले में बाद में इंस्पेक्टर को छुड़वा लिया गया था। इस्लामुद्दीन कई मामलों में इस वक्त सजा काट रहा है।
पूछताछ में तौसीफ ने बताया कि वह निकिता का अपहरण कर अपने साथ ले जाना चाहता था। उसने जब मना किया और भागने लगी तो उसने उसे गोली मार दी। यह खुलासा आरोपी ने पुलिस की पूछताछ में किया है। आरोपी ने यह भी बताया कि अगर वो रास्ते में हाथ नहीं आता तो पुलिस उसे कभी ढूंढ़ नहीं पाती। पुलिस दो दिन की पुलिस रिमांड पर लेकर उससे पूछताछ कर रही है।
पिता के दोस्त से ली गाड़ी चला रहा था
पुलिस ने बताया कि आरोपी से जो कार बरामद हुई है, वो उसके पिता के दोस्त की है। कार उसने दिल्ली से खरीदी थी मगर पेपर ट्रांसफर नहीं कराए थे। ऐसे में पुलिस कार मालिक से भी पूछताछ कर सकती है।
फॉरेंसिक के लिए भेजे जाएंगे फोन और हथियार
बरामद हथियार और दोनों के मोबाइल फोन फॉरेंसिक जांच के लिए भेजे जाएंगे। इसके साथ ही आरोपी से जुड़े डिजिटल और इलेक्ट्रॉनिक सबूत भी पुलिस जुटाने में लगी हुई है।
गृहमंत्री ने 2018 से केस की जांच के दिए आदेश
हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने छात्रा की हत्या के मामले की जांच कर रही एसआईटी को आदेश दिए हैं कि वह 2018 से इस केस की जांच करे। अनिल विज ने कहा कि प्रदेश में बेटियों को ऐसे सिसक-सिसक के मरने नहीं दिया जाएगा। गृहमंत्री ने ये भी स्पष्ट कर दिया कि इस मामले में दोषियों के साथ-साथ बेटी के परिवार को दबाने वालों को भी बख्शने के मूड में नहीं है इसलिए अब इस हत्याकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित कर दी है और ये आदेश दे दिए हैं कि मामले में न सिर्फ इस हत्याकांड, बल्कि 2018 से इस मामले की जांच की जाए जब बेटी के परिवार ने अपहरण की शिकायत देकर वापस ले ली थी।
विज ने इस मामले की गंभीरता को देखते हुए इसकी जांच लव जिहाद के एंगल से भी करने की बात कही है। उन्होंने इस बात का अंदेशा भी जताया कि 2018 में भी कांग्रेसियों ने दबाव बनाकर ही परिवार से शिकायत वापस लेने का एफिडेविट दिलवाया होगा।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *