NGT ने कहा, यमुना की प्रदूषण मुक्‍ति के लिए फिल्म एवं टीवी कलाकारों की मदद लें

नई दिल्‍ली। NGT (राष्ट्रीय हरित अधिकरण) द्वारा नियुक्त एक समिति ने सुझाव दिया है कि मूर्ति विसर्जन के कारण यमुना नदी का जल ‘बेहद जहरीला होने’ के संदेश को प्रसारित करने के लिए फिल्म एवं टीवी कलाकारों की मदद ली जानी चाहिए।
पैनल ने यह भी कहा कि इन हस्तियों को ये संदेश प्रचारित करना चाहिए कि लोग बिना पेन्‍ट वाली केवल चिकनी मिट्टी से बनी मूर्तियों का प्रयोग ही करें।
समिति ने दिल्ली के अधिकारियों को दिए गए अपने निर्देशों में कहा, ‘टीवी एवं रेडियो चैनलों के जरिए एक जागरुकता कार्यक्रम की नियोजित तरीके से शुरुआत की जानी चाहिए। यह सामने लाया जाना चाहिए कि मूर्ति विसर्जन के कारण कैसे नदी में जहरीलेपन का स्तर अस्वीकार्य रूप से बढ़ रहा है। प्रख्यात हस्तियों का साक्षात्कार लिया जा सकता है जैसे फिल्मी सितारों, टीवी कलाकारों के साथ-साथ ही प्रमुख एनजीओ का’।
NGT प्रमुख न्यायमूर्ति ए के गोयल ने नदी की सफाई की निगरानी के लिए जुलाई में एक समिति गठित की थी। समिति में दिल्ली की पूर्व सचिव शैलजा चंद्रा एवं सेवानिवृत्त विशेषज्ञ सदस्य बी एस सजवान शामिल हैं। समिति ने NGT को सौंपी अपनी रिपोर्ट में सुझाव दिया है कि अधिकारियों को मूर्ति विसर्जन के लिए विभिन्न इलाकों में कृत्रिम तालाब एवं गढ्ढे बनाने की संभावनाएं तलाशनी चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने सुझाया कि मूर्तियों की अधिकतम लंबाई तीन फुट तक सीमित कर दी जानी चाहिए। ये सुझाव गुजरात के सूरत को ध्यान में रखते हुए दिए गए हैं जिसने ताप्ती नदी में किसी भी तरह के मूर्ति विसर्जन की इजाजत न देकर हाल ही में एक उदाहरण स्थापित किया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »