नई स्टडी: 16वें साल के बाद 70वें साल में चरम पर होती है खुशी

एक नई स्टडी की मानें तो 16 और 70 साल की उम्र के लोग सबसे ज्यादा खुश रहते हैं।
वैसे तो खुश रहने की कोई उम्र नहीं होती। अगर आप टेंशन फ्री रहें तो किसी भी उम्र और परिस्थिति में आप खुश रह सकते हैं लेकिन यूके बेस्ड इस नई स्टडी की मानें तो किसी व्यक्ति की खुशी 16 साल और उसके बाद फिर 70 साल की उम्र में अपने चरम पर होती है।
द रेजॉलूशन फाउंडेशन ने यूके के ऑफिस फॉर नेशनल स्टैटिस्टिक्स के सर्वे की करीब 7 साल तक डांच की। इन अलग-अलग सर्वे में सभी उम्र के लोगों को शामिल किया गया था और उन्हें अपनी खुशी, चिंता, बेचैनी, जीवन से संतुष्टि महसूस होती है या नहीं अपनी अहमियत कितनी लगती है इन सभी पॉइंट्स पर 1 से 10 के बीच रेटिंग देनी थी।
इस उम्र में चरम पर होती है आपकी खुशी
इस स्टडी के नतीजे यू शेप्ड कर्व जैसे रहे जिसमें लोगों का कहना था कि अपने 50वें साल में वे खुद को गड्ढे जैसी स्थिति में पाते हैं जबकि 16 और 70 साल की उम्र के लोग अपनी खुशी को चरम पर मानते हैं। इस रिपोर्ट की मानें तो 70वें साल में अगर कोई खुश है तो उसकी वजह यह हो सकती है कि आपकी सेहत अच्छी हो, आपके पास जॉब हो अपना घर हो और अपनी दुख तकलीफ और खुशियां बांटने के लिए एक पार्टनर हो।
25 से 50 के बीच घटने लगती हैं खुशियां
इस स्टडी के थिंक टैंक यानी विचार मंच से जुड़े लोगों का कहना है, ‘इस रिपोर्ट के नतीजे बताते हैं कि सुख का लेवल जिसमें खुशियां, जीवन संतुष्टि, अपनी अहमियत और बेचैनी की कमी शामिल है वह आमतौर पर 25 साल के आसपास घटने लगता है जो 50वें साल तक ऐसा ही रहता है और उसके बाद फिर से फलना-फूलना शुरू होता है जब तक लोग अपने 70वें साल तक नहीं पहुंच जाते। अगर सिर्फ उम्र पर फोकस करें तो 16 और 70 साल की उम्र में लोग सबसे ज्यादा खुश रहते हैं।’
अच्छी सेहत, जॉब और पार्टनर है सुख के निर्धारक
इस रिपोर्ट को नाम दिया गया है- ‘हैपी नाउ?’ जिसके नतीजे बताते हैं कि सुखी रहने का सबसे अहम निर्धारक है- अच्छी सेहत, एक अच्छी जॉब और एक पार्टनर जिसके साथ आप अपना सुख-दुख बांट सकें। हालांकि किसी व्यक्ति के सुख का लेवल किसी के उम्र, इनकम लेवल और अड़ोस-पड़ोस के लोगों पर भी निर्भर करता है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »