अपने निकनेम Holland को ऑफ‍िश‍िएली त्याग देगा नीदरलैंड्स

एम्स्टर्डम। 2020 के शुरू होते ही उत्तरी यूरोपीय देश नीदरलैंड्स अपने निकनेम Holland को ऑफ‍िश‍िएली त्याग देगा । सरकार इसके लिए रीब्रैंडिंग कैंपेन चला रही है। नीदरलैंड्स ने घोषणा की है कि नए साल से पहले वह अपना निकनेम ‘हॉलैंड’ आधिकारिक तौर पर त्याग देगा। यहां की कंपनियों, दूतावास, मंत्रालय और विश्वविद्यालयों में एक जनवरी से देश को सिर्फ ‘नीदरलैंड्स’ के रूप में जाना जाएगा। दरअसल हॉलैंड नीदरलैंड्स का ही कुछ हिस्सा है।

नीदरलैंड्स के 12 प्रांतों में से सिर्फ 2 के नाम में हॉलैंड आता है, लेकिन लोग अक्सर नीदरलैंड्स को हॉलैंड कह देते हैं। यह तीन प्रमुख शहर एम्स्टर्डम, रॉटरडैम और द हेग के लिए भी मशहूर है।

डच मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, देश के एक नाम को रीलॉन्च करने के लिए सरकार ने (1 करोड़ 59 लाख रुपए) 200000 यूरो का बजट तय किया है। उपनाम हॉलैंड को छोड़ने का कारण जापान में हो रहे ओलिंपिक 2020 में भाग लेना और यूरोविजन सॉन्ग कॉन्टेस्ट की मेजबानी करना है।

पिछले महीने नया लोगो लेटर्स जारी हुआ
डच ट्रेड मिनिस्टर सिग्रीड काग ने पिछले महीने देश के लिए नए शब्द एनएल लोगो का अनावरण किया, इससे पहले ऑरेंजी स्टायलिश ट्यूलिप के साथ हॉलैंड लोगो था। हालांकि वर्तमान में पर्यटन वेबसाइट (Holland.com) हॉलैंडडॉटकॉम ऑरेंज ट्यूलिप के साथ ‘दिस इज हॉलैंड’ स्लोगन का इस्तेमाल कर रही है।

पर्यटकों को दूसरे शहरों तक ले जाना लक्ष्य
नए नाम को लाने के पीछे की रणनीति राजधानी एम्स्टर्डम में रुकने वाले पर्यटकों को दूसरे शहरों तक ले जाना है। डच पर्यटन बोर्ड ने बताया, मई महीने से नीदरलैंड को ही देश के नाम के रूप में प्रस्तावित करने का काम शुरू हुआ था। ताकि गिने-चुने शहरों तक ही पर्यटकों का जमावड़ा न हो। बोर्ड के मुताबिक, बीते दस सालों में 1.90 करोड़ पर्यटक नीदरलैंड्स पहुंचे। आने वाले दशक में पर्यटकों की यह बढ़ाकर 2.90 करोड़ तक ले जाने का लक्ष्य रखा गया है। अकेले एम्स्टर्डम में हर साल 1.70 करोड़ पर्यटक आते हैं। यहां के 10 लाख निवासियों को मिलाकर देखें तो पर्यटकों की काफी भीड़भाड़ हो जाती है।
– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *