100 रुपये के नये नोट के लिए Recalibrate किए जायेंगे एटीएम

एटीएम को Recalibrate करने में आएगा 100 करोड़ खर्च

नई दिल्‍ली। एटीएम को 100 के नये नोट के अनुरूप बनाने में 100 करोड़ रुपये तक खर्च आने का अनुमान है. हिचाती पेमेंट सर्विसेज के अनुसार, देश के 2.4 लाख एटीएम को Recalibrate करने में करीब 12 महीने का समय लगेगा. मालूम हो कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया जल्द 100 रुपये के नये नोट जारी करने वाला है. इसी सप्ताह नये नोट का प्रारूप भी सामने आया है.

ऐसे में यह आवश्यक हो जाता है कि एटीएम को नये नोटों के अनुरूप बनाया जाये. ध्यान रहे कि नोटबंदी के बाद जब 2000 रुपये व 500 रुपये के नये नोट जारी किये गये थे तो उस समय भी नये नोटों के अनुरूप मशीनों को रिकैलिबरेट किया गया था और इसमें खासी दिक्कत भी आयी थी.

200 रुपये के नोटों के अनुरूप मशीनों को रिकैलिबरेट करने का काम अभी भी देश में चल रहा है. हालांकि अधिकतर शहरी मशीनें इस अनुरूप हो गयी हैं.

गौरतलब है कि आरबीआई ने 10 रुपये, 50 रुपये और 500 रुपये के नये नोट पेश करने के बाद 100 रुपये के ये नये नोट जारी किये हैं.

आरबीआई के अनुसार 100 रुपये के नए नोट की खास बातें इस प्रकार हैं

जहां पर 100 अंक लिखा हुआ है वहां (जांच में) पर आर-पार देखा जा सकेगा, यानि मूल्यवर्ग अंक 100 के साथ आर-पार मिलान है.
100 अंक छिपा भी हुआ है.
देवनागरी में भी 100 अंक लिखा हुआ है.
महात्मा गांधी की तस्वीर मध्य में लगी हुई है.
छोटे शब्द जैसे आरबीआई, भारत, इंडिया और 100 लिखे गए हैं.
नोट को टेढ़ा करने में उसके धागे का हरा रंग नीला हो जाता है. इस धागे में भारत और RBI लिखा हुआ है.
आरबीआई के गवर्टन का गारंटी देने वाला कथन महात्मा गांधी की तस्वीर के दाहिने ओर लिखा हुआ है.
नोट के दाहिने हिस्से में अशोक स्तम्भ है.
जैसा ही हाल में जारी किए गए नोट में नंबरों को छोटे से बड़ा किया गया है. वैसे ही इस नोट में भी किया गया है.

विशेष प्रतिभा वाले लोगों के लिए खास इंतजाम किए गए हैं. दृष्टिबाधित लोगों के लिए इंटैलियो या उभरी हुई छपाई में महात्मा गांधी का चित्र, अशोक स्तंभ प्रतीक, उभरे हुए त्रिकोणीय पहचान चिन्ह माइक्रो-टैक्स्ट 100 के साथ, चार कोणीय ब्लीड रेखाएं हैं.- एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »