Sachin Bansal की कंपनी ने टेक कंसल्टिंग फर्म मेवेनहाइव को खरीदा

बेंगलुरु। Sachin Bansal की कंपनी Navi Technologies ने टेक कंसल्टिंग फर्म MavenHive को खरीद लिया है। फ्लिपकार्ट के को-फाउंडर Sachin Bansal ने गुरुवार को यह जानकारी दी, इस सौदे की रकम नहीं बताई। इस अधिग्रहण के जरिए नवी टेक्नोलॉजीज की स्टार्ट-अप्स सर्विसेज को मजबूती मिलेगी।

मेवेनहाइव ने फ्लिपकार्ट को भी कंसल्टेंसी दी थी
नवी टेक्नोलॉजी स्टार्टअप में निवेश करने के साथ ही उन्हें आगे बढ़ाने में मदद करती है। वह अपने निवेश वाली फर्मों की ग्रोथ के लिए टेक एप्लिकेशंस बनाने में मेवेनहाइव का इस्तेमाल कर सकती है। मेवेनहाइव सात साल पुरानी कंपनी है। यह सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, सिस्टम इंटीग्रेशन, ऐप डेवलपमेंट और डेटा एनालिटिक्स में क्लाइंट की मदद करती है। यह फ्लिपकार्ट, गोजेक, ग्रासहॉपर और स्क्रिपबॉक्स जैसी कंपनियों को कंसल्टेंसी दे चुकी है।

मेवेनहाइव के दोनों फाउंडर- भविन जविया, आनंद कृष्णन और 40 लोगों की टीम अब नवी टेक्नोलॉजीज का हिस्सा बन गए हैं। जविया और कृष्णन ने 2012 में मेवेनहाइव की शुरुआत की थी। जविया को अलग-अलग फर्मों में आईटी कंसल्टिंग का 15 साल का अनुभव है। कृष्णन ने कई बड़े ऐप बनाए हैं। जविया और कृष्णन ग्लोबल सॉफ्टवेयर डिलीवरी एंड कंसल्टिंग फर्म थॉटवर्क्स में लंबे समय तक साथ रहे थे।

पिछले साल फ्लिपकार्ट छोड़ने के कुछ महीने बाद सचिन बंसल ने बीएसी एक्विजिशंस कंपनी बनाई थी। दिसंबर 2018 में इसका नाम नवी टेक्नोलॉजीज कर दिया। उन्होंने आईआईटी के अपने साथी अंकित अग्रवाल के साथ मिलकर स्टार्ट-अप्स में निवेश के लिए यह वेंचर शुरू किया था। बंसल ने हाल ही में नवी टेक्नोलॉजीज में 888 करोड़ रुपए लगाए हैं।

बंसल ने सितंबर में नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी चैतन्य इंडिया फिन क्रेडिट की बड़ी हिस्सेदारी 740 करोड़ रुपए में खरीदी थी। बंसल इस फर्म के सीईओ बन गए थे। अमेरिकी रिटेल कंपनी वॉलमार्ट ने पिछले साल मई में फ्लिपकार्ट के 77% शेयर 16 अरब डॉलर में खरीदे थे। उस वक्त सचिन बंसल फ्लिपकार्ट में पूरे 5.5% शेयर बेचकर कंपनी से बाहर हो गए थे।
– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *