NATO ने कहा, उत्तर कोरिया का लापरवाह रवैया वैश्विक खतरा

उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच जारी गतिरोध पर नाटो NATO ने प्रतिक्रिया दी है। नाटो ने कहा है कि उत्तर कोरिया का लापरवाह रवैया वैश्विक खतरा है और इसका जवाब भी वैश्विक रूप से देने की जरूरत है। नाटो सीधे तौर पर इस संकट से जुड़ा हुआ नहीं है लेकिन उसने बार-बार उत्तर कोरिया को अपने परमाणु कार्यक्रम रोकने के लिए कहा है।
नाटो प्रमुख जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि उत्तर कोरिया का गैरजिम्मेदार व्यवहार वैश्विक खतरा है और इसे रोकने के लिए हमें वैश्विक प्रयास करने होंगे।
स्टोलेनबर्ग ने यह कहने से इंकार कर दिया कि उत्तर कोरिया की ओर से अमेरिका क्षेत्र गुआम को धमकी दी गयी है।
नाटो के आर्टिकल 5 से इस क्षेत्र को कवर किया गया था जिसमें यह कहा गया कि एक सदस्य पर हमला सभी पर हमला है। स्टोलेनबर्ग ने बताया कि हमारा पूरा जोर इस समस्या के शांतिपूर्ण समाधान पर है। ब्रिटिश रक्षा मंत्री मिचेल फलून ने कहा कि सैन्य संघर्ष को हर हाल में टालना चाहिये।
आपको बता दें कि NATO(North Atlantic Treaty Organization) एक सैन्य गठबंधन है, जिसकी स्थापना 4 अप्रैल 1949 को हुई। इसका मुख्यालय ब्रुसेल्स (बेल्जियम) में है। NATO ने एक सुरक्षा व्यवस्था बनाई है, जिसके तहत इस संगठन के सदस्य देश बाहरी हमले की स्थिति में आपसी सहयोग करने के लिए सहमत होंगे।
-एजेंसी