नेशनल हेरल्ड केस: आयकर मामले में राहुल और सोनिया गांधी को राहत देने से सुप्रीम कोर्ट का इंकार

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने आज नेशनल हेरल्ड केस के आयकर मामले में राहुल और सोनिया गांधी को तत्‍काल कोई राहत देने से इंकार कर दिया। राहुल और सोनिया ने दिल्ली उच्च न्यायालय के उस आदेश को चुनौती दी थी, जिसमें 2011-12 के लिए उनके आयकर आकलन को दोबारा खोलने की बात कही गई थी।
सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी की याचिकाओं पर अंतिम दलीलें सुनने के लिए चार दिसंबर की तारीख तय की है।
शीर्ष अदालत ने उनकी याचिकाओं पर कोई नोटिस नहीं जारी किया क्योंकि आयकर विभाग की ओर से उसके वकील उपस्थित थे। आयकर विभाग ने शीर्ष अदालत में केवियट दायर किया था कि उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ अगर कोई अपील दायर की जाती है तो उसका भी पक्ष सुना जाए। केवियट एक कानूनी प्रक्रिया है, जिसके जरिए मुकदमे के किसी भी पक्षकार द्वारा दायर आवेदन पर दूसरे पक्ष को सुने बगैर कोई आदेश नहीं दिया जाता है।
संक्षिप्त सुनवाई के बाद न्यायमूर्ति ए के सीकरी और न्यायमूर्ति एस ए अब्दुल नजीर की पीठ ने कहा, ‘चूंकि प्रतिवादी (आयकर विभाग) उपस्थित है इसलिये हम औपचारिक नोटिस जारी नहीं कर रहे हैं। हम मामले में अंतिम दलील के लिए चार दिसंबर की तारीख तय करते हैं।’ अपील राहुल, सोनिया और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ऑस्कर फर्नांडीज ने दायर की है। उन्होंने उच्च न्यायालय के 10 सितंबर के आदेश को चुनौती दी है। कांग्रेस नेताओं के खिलाफ आयकर मामला नेशनल हेरल्ड मामले से जुड़ा हुआ है, जिसमें वे फौजदारी मामले का सामना कर रहे हैं।
क्या है मामला
कर विभाग के अनुसार राहुल गांधी के वर्ष 2011-12 के कर आकलन को फिर से खोलने का फैसला किया गया क्योंकि उन्होंने उसमें यह जानकारी नहीं दी कि वह 2010 से कंपनी ‘यंग इंडिया प्राइवेट लिमिटेड’ के निदेशक थे।
विभाग के अनुसार राहुल की यंग इंडिया में जितनी हिस्सेदारी है उसके मुताबिक उनकी आय 154 करोड़ रुपये होती है न कि 68 लाख रुपये जैसा कि पहले आकलन किया गया था। आयकर विभाग तात्कालिक मामले में आयकर कानून की धारा 147 को लागू करता है। इस धारा के तहत उस आय को कर नेट में लाया जाता है जो कि वास्तविक आकलन के दौरान शामिल नहीं थी। कर विभाग पहले ही यंग इंडिया को आकलन वर्ष 2011-12 के लिए 249.15 करोड़ रुपये का नोटिस जारी कर चुका है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »