पीएम मोदी ला रहे हैं नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन, जान‍िए क्या है इसमें खास

नई द‍िल्ली। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने एलान किया कि पूरे देश में नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन लेकर आएंगे। इस योजना के तहत हर देशवासी को हेल्थ आईडी दी जाएगी। इस योजना के तहत दी जाने वाली हेल्थ आईडी में हर नागरिक के स्वास्थ्य का पूरा लेखा-जोखा होगा जो एक एप या वेबसाइट के जरिए संचालित होगा लेकिन ये रिकॉर्ड्स हर व्यक्त‍ि के अपने तक ही सीमित रहेंगे। जब एक व्यक्ति अपने रिकॉर्ड दिखाने की अनुमति देगा तभी दूसरा डॉक्टर या व्यक्ति उस नागरिक की सारी जानकारी देख पाएगा। राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य मिशन चार पिलर यानि कि स्तंभ पर काम करेगा।

इससे आपको कई तरह की सुविधाएं मिलेंगी। जैसे- आपको क्या बीमारी है? आपने पहले किस डॉक्टर को दिखाया? आपने क्या जांच कराई? आपको क्या इलाज दिया गया?

इस योजना में कोई भी अपनी इच्छा से शामिल हो सकेगा। इसमें उसकी प्राइवेसी का विशेष ध्यान रखा जाएगा। पैसा जमा करना हो, अस्पताल में पर्ची बनवाने की भागदौड़ हो, इन परेशानियों से निजात मिलेगी। यह सब एक डिजिटल कार्ड से संभव हो सकेगा। सरकार ने एनडीएचएम के लिए 470 करोड़ रुपए के फंड को मंजूरी दी है।

योजना में अभी ये 4 फीचर रहेंगे

हेल्थ आईडी: देश के हर व्यक्ति को एक हेल्थ आईडी कार्ड मिलेगा। इससे आपको डॉक्टरों और मेडिकल टेस्ट के तमाम पर्चों को सहेजने के झंझट से निजात मिलेगी। आप चाहें तो इसे आधार कार्ड से भी लिंक करवा सकते हैं।
पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड: इसमें आपकी उम्र, ब्लड ग्रुप, एलर्जी, बीमारी, सर्जरी, परिवार में कोई रोग हो तो उसकी जानकारी रहेगी। इससे डॉक्टर को आपकी हेल्थ हिस्ट्री जानने और उसके हिसाब से इलाज करने में आसानी होगी। यह रिकॉर्ड आप खुद अपडेट कर सकेंगे। आपकी इजाजत के बगैर कोई इसे देख नहीं सकेगा।
डिजी डॉक्टर: इसमें डॉक्टर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे उनकी भी एक यूनिक आईडी होगी। वे अपनी जानकारी खुद अपडेट कर सकेंगे। वे चाहें तो अपना कॉन्टैक्ट नंबर भी दे सकते हैं। उन्हें फ्री डिजिटल सिग्नेचर की सुविधा भी दी जाएगी। इसका इस्तेमाल वे मरीज को लिखे ऑनलाइन पर्चे पर कर सकते हैं।
हेल्थ फैसेलिटी रजिस्ट्री: इसमें हॉस्पिटल, क्लीनिक, लैब और स्वास्थ्य सेवा से संबंधित दूसरी फैसेलिटी जुड़ सकती हैं। इससे इनकी जानकारी तेजी के साथ एक प्लेटफॉर्म पर मिल सकेगी। यह प्लेटफॉर्म वेब और ऐप दोनों फॉर्मेट में होगा।
दो सुविधाएं बाद में जोड़ी जाएंगी

टेलीमेडिसिन: आप इस प्लेटफार्म पर रजिस्टर्ड किसी भी डॉक्टर से ऑनलाइन इलाज करवा सकेंगे।
ई-फार्मेसी: इस कार्ड के जरिए ऑनलाइन दवाएं बुलवा सकेंगे।
इस योजना का उद्देश्य क्या है?

पूरे देश का एक डिजिटल हेल्थ सिस्टम बनाना इसका मुख्य उद्देश्य है। इससे हेल्थ डेटा को मैनेज किया जा सकेगा।
हेल्थ डेटा मैनेज करने से सरकार को स्वास्थ्य से जुड़ी योजनाएं बनाने और उन्हें लागू करने में मदद मिलेगी
अभी यह सुविधा मिलने में समय लगेगा
लोगों को अभी इस योजना का लाभ पाने के लिए कुछ इंतजार करना पड़ सकता है। दरअसल सरकार ने इसके नाम, लोगो और टैगलाइन के लिए लोगों से सुझाव मांगे हैं। 6 अगस्त तक ये सुझाव देने थे। 2604 लोगों ने इसमें सुझाव दिए हैं। इसके विजेता को 25 हजार रुपए का इनाम दिया जाएगा।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *