BDS स्टूडेंटस Convention: KD डेंटल कालेज में जुटे 550 डेलीगेट्स

मथुरा। केडी डेंटल कालेज में नेशनल बीडीएस स्टूडेंटस Convention इन ओरल मेडिसिन एंड रेडियोलॉजी में मुख्य अतिथि और ईसी मेंबर आफ डेंटल काउंसिल आफ इंडिया डा. एसके कटारिया बोले-बीडीएस और एमडीएस के अलावा प्राइवेट कोर्सों का कोई खास महत्व नहीं है।

केडी डेंटल कॉलेज एंड हास्पीटल में शनिवार को नेशनल बीडीएस स्टूडेंटस Convention इन ओरल मेडिसिन एंड रेडियोलॉजी का आयोजन किया गया। राष्ट्रीय स्तर की इस स्टूडेंट Convention में देश के दिल्ली एनसीआर, हरियाणा, राजस्थान, हरियाणा, मध्य प्रदेश और पंजाब से 550 से अधिक विभिन्न संस्थानों के डेलीगेट्स ने प्रतिभाग किया।

मुख्य अतिथि और ईसी मेंबर आफ डेंटल काउंसिल आफ इंडिया डा. एसके कटारिया ने डेलीगेट्स को संबोधित करते हुए कहा कि डेंटल काउंसिल आफ इंडिया केवल बीडीएस और एमडीएस कोर्सों को मान्यता प्रदान करती है। आप लोग दूसरे प्राइवेट कोर्सों को ज्ञान वृद्वि के लिए तो कर सकते हैं मगर प्रैक्टिस करने के लिए छोटे-मोटे संस्थानों से कराए जा रहे इन कोर्सों का कोई महत्व नहीं है। केडी डेंटल कालेज ने राष्ट्रीय स्तर की इस स्टूडेंट कन्वेंशन को कराकर ऑडोंटोलाजिस्टों के हित में बहुत बडा कार्य किया है। आप कन्वेंशन के दौरान विभिन्न विशेषज्ञ वक्ताओं के विचारों से अध्ययन में काफी लाभ अर्जित कर सकेंगे।

केडी डेंटल कालेज में स्टूडेंट कन्वेंशन के बाद आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन और विशिष्ट अतिथि डा. रामकिशोर अग्रवाल बोले-रचनात्मक और सकरात्मक विचारों से ही व्यक्ति बनता है महान

केडी डेंटल कालेज एंड हास्पीटल में मुख्य अतिथि के संबोधन से पूर्व मां सरस्वती के समक्ष आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन और विशिष्ट मुख्य अतिथि डा. रामकिशोर अग्रवाल, ग्रुप एमडी मनोज अग्रवाल , मुख्य अतिथि डा. एसके कटारिया, अति विशिष्ट अतिथि डा. विशाल डेंग, केडी डेंटल कालेज के डीन डा. मनेश लाहोरी ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। कन्वेंशन से पूर्व मां सरस्वती की वंदना, मुख्य अतिथियों के स्वागत कार्यक्रम और इवेंट मैग्जीन का विमोचन कार्यक्रम हुआ।

इसके अलावा दूसरे सत्र में साइंसटिफिक सेशन, की नोट्स लेक्चर, क्विज प्रोग्राम और पैनल डिस्कशन का आयोजन भी किया गया। स्वागत के बाद आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. राम किशोर अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि एक सकारात्मक विचार नकारात्मक विचार से लाख गुणा अच्छा होता है। रचनात्मक और सकरात्मक विचारों से ही व्यक्ति महान बनता है। गांधी जी ने सकारात्मक विचारों से देश को आजादी दिलाने में सहयोग किया। ऐसे सकारात्मक विचार आप सब छात्र-छात्राओं को बनाने चाहिए जिससे देश और बेहतरीन समाज का निर्माण हो सके। आप इस कन्वेंशन से सकारात्मक सोच लेकर जाएं। अपने-अपने संस्थानों में भी इस सोच को बढावा देकर मरीजों को भविष्य में बेहतरीन सेवा दें।

कन्वेंशन में बडी संख्या में 550 डेलीगेट्स को रेडियोलॉजी की बारीकियों को समझाते हुए विचार रखे। उन्होंने छात्र-छात्राओं को दंत रोगों के इलाज की नवीनतम तकनीकियों के साथ दंत चिकित्सा में कानूनी जिम्मेदारियों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि दंत चिकित्सा के इन कानूनी पहलुओं का भले ही चिकित्सा से कोई सीधा संबंध नहीं है, मगर ये प्रैक्‍टिस में काफी सहयोगी है।

नेशनल बीडीएस स्टूडेंटस कन्वेंशन इन ओरल मेडिसिन एंड रेडियोलाॅजी का आयोन अध्यक्ष डा. गोपा कुमार आर नैय्यर और सचिव डा. विनय मोहन, डा. अनुज गौड, डा. प्रज्ञा गोयल किया।

कार्यक्रम में मौजूद अन्य लोगों में अरुण अग्रवाल, वाइस प्रिसीपल डा. शिशिर मोहन, डा. भास्‍कर, डा. उमेश, डा. रामी रेडडी, डा. जीतेंद्र, डा. राहुल नागरथ, डा, नवप्रीत, डा. मानवी, डा. सिद्धार्थ सिसौदिया और प्रशासनिक अधिकारी नीरज कुमार छापरिया आदि प्रमुख रुप से शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »