नसीरुद्दीन शाह का पाकिस्‍तानी पीएम को जवाब, मिस्‍टर खान अपने देश की समस्‍याएं देखें

मुंबई। कुछ दिनों पहले बुलंदशहर में गोहत्या की अफवाह पर भड़की हिंसा को लेकर ऐक्टर नसीरुद्दीन शाह ने एक टिप्पणी की थी, जिस पर बवाल मच गया। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भी इसमें कूद गए और उन्होंने शाह वाले मामले को जिन्ना से जोड़कर ऐसा बयान दे दिया कि नसीरुद्दीन शाह भड़क गए। इमरान खान ने कहा था कि वह भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सिखाएंगे कि अल्पसंख्यकों के साथ कैसे बर्ताव किया जाता है।’
इमरान खान का यूं बीच में कूदना नसीरुद्दीन शाह को रास नहीं आया और उन्होंने पलटवार कर पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम को करारा जवाब दिया। शाह ने द संडे एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू में कहा, ‘मुझे लगता है कि मिस्टर खान को सिर्फ उन मुद्दों पर ही बात करनी चाहिए जो उनके देश से संबंधित हैं, न कि उन मुद्दों पर जिनका उनसे वास्ता ही नहीं है। हम पिछले 70 सालों से एक लोकतंत्र हैं और जानते हैं कि हमें अपनी देखभाल कैसे करनी है।’
बता दें कि पिछले दिनों नसीरुद्दीन ने एक इंटरव्यू में कहा था कि कई इलाकों में हम देख रहे हैं कि एक पुलिस इंस्पेक्टर की मौत से ज्यादा अहमियत गाय की मौत को दी जा रही है। इस इंटरव्यू के वीडियो को शाह ने खुद शेयर किया था। इसमें वह कहते दिख रहे हैं कि एक पुलिस इंस्पेक्टर की मौत से ज्यादा एक गाय की मौत को अहमियत दी जा रही है और ऐसे माहौल में मुझे अपने औलादों के बारे में सोचकर फिक्र होती है। वह कहते हैं कि देश के माहौल में काफी जहर फैल चुका है और इस जिन्न को बोतल में डालना मुश्किल दिख रहा है।
मैंने ऐसा क्या कहा है, जो गद्दार हो गया: नसीरुद्दीन शाह
शाह ने कहा था कि मुझे डर लगता है कि कल को मेरे बच्चे बाहर निकलेंगे तो भीड़ उन्हें घेरकर पूछ सकती हो कि तुम कौन हो? हिंदू या मुसलमान? ऐसे में वह क्या जवाब देंगे। इस स्थिति में सुधार की जरूरत है और जिन्न को बोतल में बंद करना होगा। गौरतलब है कि शाह की इस टिप्पणी के बाद से ही लोग उन्हें घेरने लगे थे।
नसीरुद्दीन के बयान में कूदे इमरान खान, कहा भारत को सिखाएंगे अल्पसंख्यकों के साथ…
इमरान खान ने भी लाहौर में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान नसीरुद्दीन शाह की इस टिप्पणी पर कॉमेंट किया। इस मामले को मोहम्मद अली जिन्ना से जोड़ते हुए उन्होंने अल्पसंख्यकों के नाम पर भारत को घेरने की कोशिश की थी।
देश के मौजूदा माहौल में काफी जहर फैल चुका है: नसीरुद्दीन शाह
बकौल इमरान खान, ‘हमारी सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठा रही है कि देश में अल्पसंख्यकों को उचित और समान अधिकार मिलें। पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की भी यही सोच थी।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »