NASA का ऐलान, आज रात पृथ्‍वी के बेहद करीब से गुजरेंगे धूमकेतु

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA ने ऐलान किया है कि आज रात पृथ्‍वी की कक्षा के पास से धूमकेतु गुजरने जा रहे हैं लेकिन उनमें से कोई भी पृथ्‍वी से टकराने नहीं जा रहा है। NASA ने बताया कि विश्‍व की सबसे ऊंची इमारत बुर्ज खलीफा के जितना बड़ा धूमकेतु 2000 QW7 और 2010 C01 पृथ्‍वी और चंद्रमा के बीच से होकर गुजरेगा, लेकिन उसके टकराने के आसार नहीं हैं।
NASA ने बताया कि मीडियम साइज के ये दो धूमकेतु 13-14 सितंबर की रात को पृथ्‍वी के पास से गुजरेंगे। उन्‍होंने कहा, ‘हम दोनों पर नजर रखे हुए हैं लेकिन दोनों की ऑरबिट की जांच के बाद हम कह सकते हैं कि इनसे पृथ्‍वी को कोई खतरा नहीं है।’
NASA ने बताया कि वर्ष 2000 से इस धुमकेतु पर उनकी पैनी नजर है।
NASA ने कहा कि ये दोनों धुमकेतू पृथ्‍वी से 3.5 मिलियन मील दूरी से गुजरेंगे। हालांकि पहली बार कोई धूमकेतु पृथ्‍वी के इतने ज्‍यादा करीब से गुजरेगा।
NASA ने बताया कि 2010 C01 धूमकेतु 400 से 850 फुट का है जो अमेरिकी समयानुसार (14 सितंबर भारतीय समय के मुताबिक) 13 सितंबर की रात को 11:42 बजे पृथ्‍वी की कक्षा के पास से गुजरेगा। वहीं 2000 QW7 धूमकेतु 950 से लेकर 2100 फुट लंबा है। 2000 QW7 धूमकेतु 14 सितंबर को भारतीय समयानुसार शाम 5.30 बजे पृथ्‍वी की कक्षा के पास से गुजरेगा।
NASA के मुताबिक सोलर सिस्‍टम के बनने के समय से ये धुमकेतु ऐसे ही हैं। इनमें कोई बदलाव नहीं आया है। हालांकि इस बार ये पृथ्‍वी की कक्षा के 30 मिलियन मील के दायरे के अंदर से गुजरेंगे।
‘गॉड ऑफ केऑस’ के टकराने का खतरा
बता दें कि अगले 10 साल में धूमकेतु 99942 अपोफिस पृथ्‍वी की कक्षा के बेहद नजदीकी से गुजरने वाला है। इसे ‘गॉड ऑफ केऑस’ नाम दिया गया है। यह धूमकेतु 340 मीटर लंबा है और पृथ्‍वी की सतह से मात्र 19 हजार मील की दूरी से गुजरेगा। अगर अपोफिस पृथ्‍वी से टकराता है तो इससे पूरी पृथ्‍वी पर भारी तबाही होगी। ‘गॉड ऑफ केऑस’ से निपटने के लिए NASA ने तैयारी शुरू कर दी है।
‘गॉड ऑफ केऑस’ इस समय 25 हजार मील प्रतिघंटा की रफ्तार से चक्‍कर लगा रहा है। अगर वह अपने परिक्रमा पथ से भटका तो पृथ्‍वी से उसकी टक्‍कर हो सकती है। NASA के मुताबिक वर्ष 2029 में यह धूमकेतु पृथ्‍वी के पास से गुजरेगा। इसी धूमकेतु को लेकर टेस्‍ला के मालिक एलन मस्‍क ने भी चेतावनी दी थी।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *