भू-माफिया के रूप में दर्ज हो सकता है सपा सांसद आजम खान का नाम

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान के गृहनगर रामपुर का जिला प्रशासन उत्तर प्रदेश सरकार के एंटी-भू माफिया पोर्टल पर भू-माफिया की श्रेणी के तहत उनका नाम डालने पर विचार कर रहा है। साल 2017 में सत्ता संभालने के तुरंत बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भू-माफियाओं की पहचान करने और लोगों को जमीन हड़पने की शिकायत दर्ज करने के लिए इस पोर्टल की स्थापना की थी।
पुलिस के अनुसार नव निर्वाचित सांसद के खिलाफ 30 से अधिक मामले चल रहे हैं, जिसमें से ज्यादातर सरकारी या किसानों की जमीन को हथियाने से जुड़े हैं। रामपुर के पुलिस अधीक्षक अजय पाल शर्मा ने कहा कि जमीन हथियाने के मामलों में कथित रूप से शामिल होने के कारण आजम खान का नाम भू-माफिया पोर्टल पर सूचीबद्ध करने की सिफारिश की जाएगी।
उन्होंने कहा कि जिला मजिस्ट्रेट और मैं जिला के विभिन्न पुलिस स्टेशनों में आजम खान या उनके सहयोगियों द्वारा हड़पी गई भूमि से संबंधित रिपोर्टों की समीक्षा करेंगे। इसके बाद उनके नाम को सरकार के भू-माफिया पोर्टल पर सूचीबद्ध करने की सिफारिश की जाएगी।
शुक्रवार को रामपुर में राजस्व विभाग द्वारा दर्ज एक एफआईआर के आधार पर आजम खान के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। एफआईआर में आजम खान और उनके करीबी सहयोगी व पूर्व पुलिस अधिकारी अलेहसन खान के खिलाफ 26 किसानों की जमीन हड़पने का आरोप लगाया गया है। बताया जा रहा है कि इस जमीन का इस्तेमाल समाजवादी नेता के एक मेगा मल्टी-करोड़ प्रोजेक्ट मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय के निर्माण में किया।
एफआईआर दर्ज होने के बाद रामपुर में 26 किसान अब अलग एफआईआर दर्ज कराएंगे। कथित तौर पर एक जाली सेल डीड पर हस्ताक्षर करने के लिए प्रताड़ित किया गया था। राजस्व विभाग ने शिकायत में आजम खान पर आरोप लगाया कि गरीब किसानों की जमीन हड़पने के लिए उन्होंने (साल 2012-17 से उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री के रूप में) अपने पद का दुरुपयोग किया और 5,000 हेक्टेयर की एक अन्य विशाल भूमि पर अवैध कब्जा कर लिया।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *