कुत्तों के मांस की ब‍िक्री पर नगालैंड सरकार ने लगााई रोक

कोह‍िमा। नगालैंड में कुत्तों की खरीद-फरोख्त और आयात पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। राज्य के मुख्य सचिव तेमजेन तॉय ने कहा कि कुत्तों के बाजार के साथ-साथ उनके मीट (कच्चे और पके हुए) की बिक्री पर भी रोक लगा दी गई है। राज्य के मंत्रिमंडल द्वारा लिए गए इस फैसले की सराहना की जानी चाहिए।

कानूनी रूप से कुत्ते की हत्या और उसका मांस खाना अवैध है लेकिन अभी भी नगालैंड और पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों में कुत्ते का मांस खाया जाता है। स्थानीय लोग कुत्ते के मांस को उच्च पोषण और औषधीय मानते हैं।

नागालैंड सरकार ने शुक्रवार को राज्य में कुत्तों के मांस की बिक्री पर रोक लगा दिया है। नागालैंड के मुख्य सचिव घोषणा करते हुए कहा है कि राज्य में कुत्तों के कच्चे और पके दोनों मांस की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। तेमजेन ताय ने एक ट्वीट करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने कुत्तों के मांस के व्यापार पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है।

ताय ने ट्वीट में राज्य के मंत्रिमंडल द्वारा लिए गए समझदारी भरे फैसले की सराहना भी की है। ताय ने अपने ट्वीट में बीजपी सांसद मेनका गांधी और नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो को टैग किया है। दरअसल, सरकार ने यह फैसला तब लिया जब सोशल मीडिया पर दीमापुर के बाजारों में बिकने वाले कुत्तों का फोटो वायरल हो गया था।

इस पर लोगों ने नाराजगी भी जताई थी। हाल ही में, एक प्रमुख कवि, और पूर्व राज्यसभा सांसद, प्रीतिश नंदी ने ट्विटर पर अपने प्रशंसकों को नागालैंड के बाजारों में कुत्ते के मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक आंदोलन में शामिल होने की अपील की थी।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *