रहस्य बना हुआ है भगवान जगन्नाथ के खजाने की चाबी का गुम हो जाना

हिंदू धर्म में चार धाम बताए गए हैं जो चारों दिशाओं में बसे हैं। उत्तर दिशा में बदरीनाथ हैं, दक्षिण दिशा में रामेश्वरम, पश्चिम में द्वारिका और पूर्व में जगन्नाथ पुरी।
ऐसी मान्यता है कि इन चारों धामों में भगवान का साक्षात् वास है और इनके दर्शन से कई जन्मों के पाप-ताप दूर हो जाते हैं और मुक्ति की प्राप्ति होती है।
जगन्नाथ मंदिर का रहस्य
इन चारों धामों में जगन्नाथपुरी की ऐसी मान्यता है कि इनमें भगवान श्रीकृष्ण आज भी सशरीर मौजूद हैं और हर 12 साल के बाद नवकलेवर उत्सव में नीम की लकड़ी से बना इनका आवरण बदला जाता है। मान्यताओं के अनुसार इस आवरण के अंदर भगवान किस रूप में रहते हैं, यह अपने आप में एक रहस्य है। भगवान जगन्नाथ की तरह ही इनके खजाने की चाबी का गुम हो जाना भी इन दिनों रहस्य बना हुआ है और इसको लेकर राजनीति भी शुरू हो गई है।
जगन्नाथ मंदिर का खजाना
दरअसल, इसके पीछे कारण यह है कि इस मंदिर की वार्षिक आय करीब 50 करोड़ है और मंदिर की संपत्ति 250 करोड़ के करीब। लेकिन जितना दिखता है उससे कहीं अधिक इस मंदिर का खजाना विशाल माना जा रहा है। ऐसा धारणा है कि मंदिर की जितनी ऊंचाई है उतना ही गहरा है मंदिर का खजाना जिनमें रुपये, पैसे ही नहीं रत्न और जवाहरात भरे हुए हैं। और अब इस खजाने की चाबी गायब हो गई है।
खजाने की गुम हुई चाबी का रहस्य
आपको बता दें कि ओडिशा हाई कोर्ट के आदेश के बाद ‘रत्न भंडार’ कक्ष में 4 अप्रैल को कड़ी सुरक्षा के बीच 16 सदस्यों वाली एक टीम ने 34 साल के बाद यहां जांच के लिए आई थी। इस घटना के करीब दो महीने बाद चाबी के गायब होने की बात सामने आई है।
फिर किसने गुम किया खजाने की चाबी?
4 अप्रैल को खजाना देखकर लौटी टीम ने रत्न भंडार के रक्षक लोकनाथ की मूर्ति के पास शपथ ली थी कि वे रत्न भंडार से जुड़ी कोई भी बात किसी को नहीं बताएंगे। उनका काम सिर्फ ढांचे की मजबूती और सुरक्षा का मुआयना करना था। इस दौरान उन्हें खजाने वाले संदूक और रत्नों को छूने की इजाजत नहीं थी।
100 करोड़ से अधिक कीमत की चांदी की ईंट
भगवान जगन्नाथ के खजाने की विशालता को लेकर इसलिए भी अटकलें लगाई जा रही हैं क्योंकि इससे पहले 2011 में जगन्नाथपुरी के पास ही एमार मठ से एक मजदूर एक चांदी का ईंट चुराकर ले गया था और इसके बाद एक ऐसा रहस्य उजागर हुआ जिसे देखकर प्रशासन की आंखें भी चौंधिया गई। जांच में जब इस मठ के एक कमरे को खोला गया तो उसमें से 100 करोड़ से अधिक कीमत की चांदी की ईंटें मिली।
अब देखना दिलचस्प होगा कि जगन्नाथ मंदिर के खजाने की चाबी का गुम होना कौन से नए रहस्य को सामने लाता है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »