आप जैसी छरहरी काया की चाह रखती हैं, उसे पूरा करने में आंवला है कारगर

आप जैसी छरहरी काया की चाह रखती हैं, उसे पूरा करने में आंवला आपकी सहायता कर सकता है। जूस से लेकर चटनी तक आंवला अपने हर रूप से चर्बी पिघलता है।
आंवला पोषक तत्वों से भरपूर होता है और किसी भी मौसम में इसका सेवन किया जा सकता है। हालांकि कच्चा आंवला सिर्फ सर्दियों में मिलता है लेकिन इसके जूस, कैंडी, चूर्ण और सूखे फल को पूरे साल उपयोग करने के लिए स्टोर कर लिया जाता है इसलिए आंवले से तैयार पौष्टिक पदार्थ पूरे साल मार्केट में मिलते हैं।
खास बात यह है कि स्टोर करने पर भी इसके गुणों में किसी तरह की कोई कमी नहीं आती है बल्कि यह आपके शरीर की बढ़ती चर्बी को लगातार मेल्ट करता रहता है।
नहीं जमने देता फैट
-आंवले में विटामिन-सी और आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इस कारण यह शरीर को ऊर्जावान रखने का काम करता है। साथ ही आपके मेटाबॉलिक रेट को सही बनाए रखता है। इस कारण शरीर में अतिरिक्त वसा का जमाव नहीं हो पाता है।
पहले से जमी हुई चर्बी को मेल्ट करता है
-आंवले का नियमित सेवन शरीर में फैट जमा होने से तो रोकता ही है, साथ ही पहले से जमा चर्बी को पिघलाकर शरीर से बाहर करने का काम भी करता है। इससे आपकी काया सुडौल बनती है और आप पहले की तुलना में अधिक आकर्षक दिखने लगते हैं।
इन गुणों से भरपूर है आंवला
-जैसा कि हम बता चुके हैं कि आंवला में विटमिन-सी और आयरन पाया जाता है और ये दोनों ही तत्व आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का कार्य करते हैं इसलिए आपको आंवला अपनी डेली डायट में शामिल करना चाहिए ताकि आप मौसमी बीमारियों की चपेट में ना आएं।
विषाक्त पदार्थ करता है बाहर
-आंवला आपका पेट नियमित रूप से साफ करने का काम करता है। इस कारण आपके पाचनतंत्र में विषाक्त पदार्थ जमा नहीं हो पाते हैं और आपका मेटाबॉलिज़म ठीक तरह से काम करता है। जब मेटाबॉलिक रेट ठीक रहता है तो भूख सामान्य बनी रहती है और क्रेविंग के चलते आप अधिक मात्रा में कैलरी का सेवन नहीं करते हैं। इससे शरीर में गैरजरूरी चर्बी जमा नहीं होती है।
आंवले का जूस पिएं
-ऑर्गेनिक फूड उपलब्ध करानेवाले कई देसी स्टोर्स पर और आयुर्वेदिक दवाओं के मेडिकल स्टोर पर आपको आंवला जूस आराम से मिल जाएगा। आप इसका हर दिन सेवन करें और बिना किसी खास मेहनत के शरीर की फालतू चर्बी हटा दें।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *