म्यांमार: रोहिंग्या रिपोर्टिंग मामले में Reuters के दो पत्रकारों को सात-सात साल की सजा

यंगून। म्यांमार में रोहिंग्या रिपोर्टिंग मामले की सुनवाई के दौरान न्यायाधीश ने सोमवार को संवाद समिति Reuters के दो पत्रकारों को सात-सात साल जेल की सजा सुनायी। यह सजा रोहिंग्या संकट पर उनके द्वारा की गई रिपोर्टिंग में म्यांमार के सरकारी गोपनीयता कानून का उल्लंघन करने पर सुनाई गई है।
इसे मीडिया की स्वतंत्रता पर एक हमले के तौर पर देखा जा रहा है। न्यायाधीश ये लवीन ने अदालत में कहा, ‘चूंकि उन्होंने गोपनीयता कानून के तहत अपराध किया है, दोनों को सात-सात साल जेल की सजा सुनायी जा रही है।’
बता दें कि म्यांमार में रोहिंग्या शरणार्थियों पर हो रही हिंसा की रिपोर्टिंग के दौरान Reuters के दो रिपोर्टर दिसंबर से जेल में हैं। इनके नाम वा लोन और क्याव सोय हैं।
Reuters ने पत्रकारों को मिली सजा की कड़ी आलोचना करते हुए उनके तत्काल रिहाई की मांग की। म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र प्रतिनिधि ने भी इस घटना को निंदनीय बताते हुए इसे प्रेस की आजादी पर आघात बताया है। दुनिया भर में अभिव्यक्ति की आजादी के समर्थकों ने इस घटना की निंदा की है।
बता दें कि संयुक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट में भी म्यांमार में सेना द्वारा रोहिंग्याओं पर अत्याचार की बात कही गई है। दोनों पत्रकारों ने भी कहा कि उन्होंने निष्पक्ष रिपोर्टिंग की और किसी कानून का उल्लंघन नहीं किया। यंगून में पत्रकारों की रिहाई के लिए मार्च भी निकाला गया।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »