अयोध्या मामले में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड दाखिल करेगा रिव्यू पिटीशन

नई दिल्‍ली। सुन्नी वक्फ बोर्ड ने मंगलवार को अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट में रिव्यू पिटीशन न दाखिल किए जाने का फैसला लिया था। इसके ठीक एक दिन बाद ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने कहा है कि वह फैसले को चुनौती देते हुए अदालत में पुनर्विचार याचिका लगाएगा।
एआईएमपीएलबी ने कहा, ‘अपने संवैधानिक अधिकार का इस्तेमाल करते हुए दिसंबर के पहले हफ्ते में हम बाबरी मस्जिद केस में रिव्यू पिटीशन दाखिल करने जा रहे हैं। सुन्नी वक्फ बोर्ड के अर्जी न दाखिल करने के फैसले का कानूनी तौर पर कोई असर नहीं पड़ेगा।’
मंगलवार को सुन्नी वक्फ बोर्ड ने कहा था कि वह रिव्यू याचिका नहीं लगाएगा। वहीं, कोर्ट द्वारा मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही मस्जिद के लिए पांच एकड़ जमीन मुहैया कराने के आदेश पर बोर्ड ने कहा था कि इस मुद्दे पर एक और बैठक में चर्चा के बाद फैसला लिया जाएगा।
उधर बीजेपी ने बोर्ड द्वारा रिव्यू अर्जी न लगाए जाने के फैसले का स्वागत किया गया था। बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने कहा, ‘मैं अयोध्या मामले में सुन्नी वक्फ बोर्ड के फैसले का स्वागत करता हूं। यह राष्ट्रहित में है और इसका उद्देश्य देश में सांप्रदायिक सौहार्द्र बनाए रखना है।’
बीजेपी नेता ने कहा कि जिस तरह हिंदू और मुस्लिम समाज ने फैसले के बाद परिपक्वता दिखाई है उससे पता चलता है कि भारतीयों में भाईचारा सबसे ऊपर है। सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद-राम जन्मभूमि विवाद में 9 नवंबर को फैसला सुनाते हुए 2.77 एकड़ जमीन रामलला विराजमान को दिए जाने का आदेश दिया था। मामले के तीन पक्षकारों में से एक पक्ष रामलला विराजमान भी हैं। पांच जजों की संविधान पीठ ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए पांच एकड़ जमीन मुहैया कराने का आदेश दिया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *