रोहित शेखर की मौत के मामले में हत्‍या का केस दर्ज, क्राइम ब्रांच को जांच सौंपी

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे की संदिग्ध मौत के मामले में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि शेखर तिवारी की मौत अप्राकृतिक थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सामने आने के बाद दिल्ली पुलिस ने इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी है। जिसने इस मामले में भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज किया है। क्राइम ब्रांच ने हत्या का केस अज्ञात के खिलाफ दर्ज किया है।
जानकारी के अनुसार आज दिन में क्राइम ब्रांच की टीम और वरिष्ठ अधिकारी डिफेंस कॉलोनी स्थित रोहित के घर पर पहुंचे थे। टीम रोहित के घर की जांच से मौत की वजह पता लगाने की कोशिश कर रही है।
दिल्ली पुलिस ने बताया कि स्व. एन डी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में ‘अप्राकृतिक मौत’ की बात सामने आई है। अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 302 (हत्या का मामला) के तहत मामला दर्ज किया गया।
गौरतलब है कि रोहित शेखर तिवारी की संदिग्ध परिस्थितियों में मंगलवार को मौत हो गई थी। तबीयत खराब होने पर शाम करीब 4 बजकर 41 मिनट पर साकेत स्थित मैक्स अस्पताल ले जाया गया था। जांच के बाद डॉक्टरों ने रोहित को मृत घोषित कर दिया।
डॉक्टरों का कहना है कि 40 वर्षीय रोहित की मौत अस्पताल में लाने से पहले ही हो गई थी। अस्पताल में रोहित की मां उज्ज्वला और पत्नी अपूर्वा शुक्ला भी मौजूद थीं।
रोहित की मां उज्जवला से जब बेटे की मौत की वजह पूछी गई तो उन्होंने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि मेरे बेटे की स्वाभाविक (नेचुरल) मृत्यु हुई है लेकिन ये मैं बाद बताऊंगी कि वो क्या परिस्थितियां थीं जो उसकी मौत के लिए जिम्मेदार हैं।
लेकिन इसके बाद भी रोहित का मौत के पहले कई लोगों को फोन करना और इनमें पत्रकारों के नंबरों का शामिल होना मामले को संदिग्ध बना रहा है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »