मुलायम सिंह के समधी ने कहा, जब तक अखिलेश घुटने टेकते रहेंगे, तब तक चलेगा गठबंधन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में भाजपा के खिलाफ लोकसभा चुनाव के पहले समाजवादी पार्टी व बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन की घोषणा के दो दिन बाद ही समाजवादी पार्टी ने विधायक ने गठबंधन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सुहागनगरी फिरोजाबाद के सिरसागंज से विधायक हरिओम यादव ने कहा कि यह गठबंधन लंबा नहीं चलेगा। मुलायम सिंह यादव के समधी हरिओम यादव से साफ कहा कि गठबंधन तभी तक चलेगा जब तक हमारी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव बसपा अध्यक्ष मायावती के सामने घुटने टेकते रहेंगे।
समाजवादी पार्टी के विधायक हरिओम यादव ने कल समाजवादी पार्टी व बहुजन समाज पार्टी के बीच के गठबंधन को लेकर बड़ा बयान दिया है। बेहद आक्रामक छवि के विधायक हरिओम यादव ने कहा कि फिरोजाबाद में तो यह गठबंधन काम नहीं करेगा। गठबंधन यहां पर कभी कामयाब नहीं होगा। मायावती के बारे में सभी को पता है, वह अपने सामने किसी की भी नहीं सुनती हैं। यह गठबंधन तभी तक चल सकता है, जब तक हमारे अध्यक्ष अखिलेश यादव जी हर बात पर बहनजी की हां में हां मिलाते रहेंगे, और घुटने टेकते रहेंगे।
इतना ही नहीं, विधायक हरिओम यादव ने कहा कि फिरोजाबाद लोकसभा सीट से शिवपाल सिंह यादव चुनाव लड़ेंगे। यदि नहीं लड़ते हैं तो जनता जो फैसला करेगी वहीं हम करेंगे।
फिरोजाबाद के सिरसागंज से विधायक और मुलायम सिंह यादव के समधी हरिओम यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव अब तो पूरी तरह से घुटने टेक दें तभी लोकसभा चुनाव में सपा-बसपा का गठबंधन चलेगा।
माना जा रहा है कि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के बीच हुए गठबंधन के बाद अब सपा में ही बगावत शुरू हो गई है।
पार्टी के फिरोजाबाद के सिरसागंज से विधायक और मुलायम सिंह यादव के समधी हरिओम यादव ने अखिलेश यादव के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। हरिओम यादव का कहना है कि यह गठबंधन नहीं चलेगा। विधायक ने समाजवादी पार्टी के खिलाफ शिकोहाबाद में 22 जनवरी को पोल खोलो सम्मेलन बुलाया गया है। इसमें लोगों को बताया जाएगा कि पांच साल में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ क्या-क्या किया गया।
विधायक हरिओम यादव ने कहा कि नेताजी (मुलायम सिंह यादव) जैसे विशाल हृदय वाले व्यक्ति के साथ गठबंधन नहीं चला तो इनके साथ कैसे चलेगा। अब तो सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव बसपा मुखिया मायावती के सामने घुटने टेक दें तो ही यह संभव हो सकेगा। उन्होंने पार्टी के मुख्य महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव और सांसद अक्षय यादव पर भाजपा से मिले होने का आरोप लगाया। यहां पर काफी समय से रामगोपाल यादव की खिलाफत कर रहे हरिओम यादव ने कहा कि रामगोपाल यादव भाजपा से मिले हैं।
जिले के भाजपा नेता और पूर्व मंत्री जयवीर सिंह से उनकी सांठगांठ है। चंद रोज पहले रामगोपाल ने पूर्व मंत्री के साथ मिलकर उनके (हरिओम यादव) और बेटे विजय प्रताप उर्फ छोटू के ही खिलाफ तमाम साजिशें रचीं। हरिओम यादव ने कहा कि मैंने सिरसागंज क्षेत्र में जितना विकास अखिलेश यादव के सहयोग से कराया, उतना पूरे उत्तर प्रदेश की किसी विधानसभा क्षेत्र में विकास नहीं हुआ लेकिन सांसद और उनके पिता क्षेत्र की जनता को गुमराह कर रहे हैं। सांसद ने यदि यहां विकास कराया होता तो टूंडला, जसराना, शिकोहाबाद में दिखाई देता।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »