मुख्तार अंसारी SGPGI से डिस्चार्ज, वापस बांदा जेल भेजा गया

मऊ के सदर से बीएसपी विधायक मुख्तार अंसारी को लखनऊ स्थित संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट (SGPGI) से डिस्चार्ज कर दिया गया है। उन्हें वापस बांदा जेल भेजा जा रहा है। उनका आगे का इलाज बांदा जेल में ही होगा।
इस बीच SGPGIआई से उनकी छुट्टी होने की सूचना के बाद मुख्तार अंसारी के परिजनों ने सरकार पर लारवाही का आरोप लगाया है। मुख्तार अंसारी को दो दिन पहले बांदा जेल में दिल का दौरा पड़ा था, जिसके बाद उन्हें लखनऊ के SGPGI आई लाया गया था।
मंगलवार को मुख्तार अंसारी की एंजियोग्रफी और ईसीजी की रिपोर्ट सामान्य आई। इसके बाद SGPGI के डॉक्टरों ने कहा कि मुख्तार को दिल की बीमारी नहीं है। उनका हार्ट स्वस्थ्य है।
घरवालों के विरोध के बाद SGPGI के डॉक्टरों ने उन्हें एक दिन और अंडर ऑब्जर्वेशन रखा गया। इस दौरान मुख्तार पूरी तरह से स्वस्थ्य रहे। डॉक्टरों ने गुरुवार को उनकी छुट्टी करने की बात कही। गृह विभाग को भी इस मामले में सूचना भेज दी गई। गृह विभाग ने मुख्तार का आगे इलाज बांदा जेल में ही कराने का फैसला किया है।
इधर मुख्तार के परिवार का कहना है कि मुख्तार कोई सामान्य कैदी नहीं हैं। वह एक जनप्रतिनिधि हैं। सरकार उनके इलाज में लापरवाही कर रही है। परिवार का आरोप है कि कुछ मंत्रियों के दबाव में मुख्तार को वापस बांदा भेजा जा रहा है।
मुख्तार को बांदा भेजने की पूरी तैयारी कर ली गई है। SGPGIआई और मोहनलालगंज पुलिस पीएसी के साथ लखनऊ बॉर्डर तक छोड़ेगी। उसके बाद बांदा जेल सुरक्षा उन्हें बांदा लेकर जाएगी। बीच में पड़ने वाले जिलों की पुलिस भी उनके साथ होगी। मुख्तार के साथ उनके बेटे अब्बास अंसारी भी जा रहे हैं।
-एजेंसी