राजीव इंटरनेशनल स्कूल में मनाई गई Vasant Panchami

मथुरा। राजीव इंटरनेशनल स्कूल में नेहरू सदन के छात्र-छात्राओं द्वारा वसंत पंचमी का पर्व बड़ी धूमधाम व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। विद्यालय प्रांगण में शिक्षकों एवं छात्र-छात्राओं द्वारा Vasant Panchami पर विद्या की आराध्य देवी मां सरस्वती की पूजा-अर्चना एवं हवन आदि कर उनका आशीर्वाद प्राप्त किया गया।

इस अवसर पर छात्र-छात्राओं ने नयनाभिराम नृत्य प्रस्तुत कर सभी को वसंती रंग में सराबोर कर दिया। छात्र-छात्राओं ने अपने भाषणों के माध्यम से वसंत पंचमी की विस्तृत जानकारी प्रदान की।

मां सरस्वती की पूजा के लिए समर्पित वसंत पंचमी का पर्व बुधवार को राजीव इंटरनेशनल स्कूल में मनाया गया। इस अवसर पर प्रधानाचार्य शैलेन्द्र सिंह ग्रेवाल ने छात्र-छात्राओं को बताया कि वसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा करने से बुद्धि और विद्या की प्राप्ति होती है। वसंत पंचमी के दिन पीले रंग का विशेष महत्व होता है। वसंत पंचमी ऋतु परिवर्तन का सूचक है। वसंत ऋतु के आगमन से गर्मी के आगमन की आहट मिलने लगती है। साथ ही प्रकृति रंग-बिरंगे फूलों से सजना शुरू हो जाती है। वसंत ऋतु फसलों व पेड़-पौधों में फूल और फल लगने का मौसम होता है, इससे प्रकृति का वातावरण बहुत ही सुहाना हो जाता है।

आर.के. एज्यूकेशन हब के अध्यक्ष डा. रामकिशोर अग्रवाल ने शिक्षकों और छात्र-छात्राओं को वसंत पंचमी की बधाई देते हुए कहा कि स्कूल ही ऐसा माध्यम हैं, जो बच्चों को समय-समय पर भारतीय तीज-त्योहारों एवं भारतीय संस्कृति से अवगत कराते हैं तथा उन्हें भारतीय संस्कृति से जोड़े रखते हैं। सच्चाई यह है कि तीज-त्योहार ही भारतीय संस्कृति की पहचान हैं।

चेयरमैन मनोज अग्रवाल ने सभी को वसंत पंचमी की बधाई देते हुए कहा कि ऐसे त्योहारों से छात्र-छात्राओं को भारत के मौसम एवं ऋतु परिवर्तन की जानकारी प्राप्त होती है। इस प्रकार के कार्यक्रम हमारी भारतीय संस्कृति का परिचय देते हैं और इससे आगे आने वाली पीढ़ियों को भी भारतीय संस्कृति से जुड़े रहने की प्रेरणा मिलती है। राजीव इंटरनेशनल स्कूल में इस प्रकार के कार्यक्रमों के माध्यम से समय-समय पर छात्र-छात्राओं को तीज-त्योहारों और प्रकृति परिवर्तन की जानकारी प्रदान की जाती है। कार्यक्रम का संचालन अंशिका और दीपांशी द्वारा किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *