मोदी ने सबसे ख़तरनाक जुमला ट्रंप के सामने बोला: शेख रशीद

पाकिस्तान के बढ़बोले रेल मंत्री शेख रशीद अहमद ने भारत को चेतावनी देते हुए कहा है कि पाकिस्‍तान की ‘फौज ने जंग पर बयान देने के लिए मुझे रखा है’.
रशीद ने कहा, ”मोदी ने सबसे ख़तरनाक जुमला ट्रंप के सामने बोला है कि भारत और पाकिस्तान एक मुल्क था. भारत मुसलमानों को टारगेट करने के लिए एनआरसी लाया है. सच तो यह कि भारत में कई पाकिस्तान बन सकते हैं. मैं जंग की बात इसलिए करता हूं क्योंकि मोदी का एजेंडा पाकिस्तान को तबाह करना है. फ़ौज ने जंग की तैयारियों पर बयान देने के लिए मुझे रखा है. मैं बड़ी ज़िम्मेदारी से कह रहा हूं कि पाकिस्तान के पास स्मार्ट बम हैं.”
रशीद ने कहा कि पाँच अगस्त के बाद से नियंत्रण रेखा और दूसरे समझौते ख़त्म हो गए हैं.
उन्होंने कहा, “भारत ने दो ग़लतियां की हैं, पहला यह सोचते हुए परमाणु परीक्षण किया कि पाकिस्तान ऐसा नहीं करेगा और उसके बाद 5 अगस्त 2019 को भारत ने कश्मीर का विशेष दर्जा हटा दिया.”
हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि दोनों देशों के बीच संवाद भी शुरू हो सकता है बशर्ते भारत संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का पालन करते हुए कश्मीर मसले का हल खोजे.
रशीद पहले भी भारत से तनाव पर बयान देते रहे हैं. हाल ही में सोशल मीडिया पर उनका एक वीडियो बहुत साझा किया गया था जिसमें नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ भाषण देते हुए उन्हें करंट लग गया था.
रशीद ने ऐलान किया कि पाकिस्तान के ननकाना में रेलवे स्टेशन को बाबा गुरु नानक के नाम पर रखा जाएगा. उन्होंने उम्मीद जताई कि वो स्टेशन पाकिस्तान में धार्मिक पर्यटन के लिहाज़ से अहम भूमिका निभाएगा.
उन्होंने कहा कि गुरु नानक ने शांति का रास्ता दिखाया था और पाकिस्तान शांति के रास्ते पर है जबकि भारत ने कश्मीर और बाक़ी जगहों पर आक्रामक और हिंसक नीति अपनाई है.
हाल ही में पाकिस्तान के ननकाना साहिब में एक सिख परिवार ने अपनी बेटी के ज़बरन शादी और इस्लाम में धर्मांतरण का आरोप लगाया था.
उधर पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने विपक्षी पार्टियों से आग्रह किया है कि कश्मीर के मसले पर सभी एकजुटता बनाए रखें. क़ुरैशी ने कहा, ”विपक्ष पिछले शुक्रवार को विरोध-प्रदर्शन में शामिल नहीं हुआ था इसलिए इस शुक्रवार को कश्मीरियों के साथ खड़ा रहे. विपक्ष राष्ट्रीय मुद्दों पर साथ रहे.”
-BBC

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *