2020 में टॉप टेक स्किल्स के लिए 60 हजार से अधिक जॉब

नए साल में इंडिया इंक के बीच डिजिटल और नए जमाने की प्रौद्योगिकी के पेशेवरों की मांग सबसे अधिक रहने वाली है। आर्टिफिशल इंटेलिजेंस (AI), मशीन लर्निंग (ML), नेचुरल लैंग्वेज प्रोसेसिंग (NLP), रोबॉटिक्स, ब्लॉकचेन आदि की ट्रेनिंग पा चुके लोगों की मांग 2020 में दोगुनी रहने का अनुमान लगाया जा रहा है।
इस बीच कॉस्ट का दबाव बढ़ने और बिजनेस में बनी अनिश्चितता के कारण कंपनियों ने अन्य क्षेत्रों में हायरिंग घटाई है।
कंपनियों को स्टाफ मुहैया कराने वाली फर्म एक्सफीनो का अनुमान है कि 2020 में नए जमाने की टॉप 10 टेक स्किल्स के लिए 60 हजार से अधिक जॉब ओपनिंग होंगी। इनमें डेटा ऐनालिटिक्स, ऐमजॉन वेब सर्विसेज (AWS), डेटा साइंस, ML, NLP, डेटा विजुअलाइजेशन, इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT), AI और ब्लॉकचेन जैसे क्षेत्रों की नौकरियां शामिल होंगी।
एक्सफीनो के को-फाउंडर कमल कारंत ने बताया, ‘इन सुपर-स्पेशलाइज्ड स्किल्स की मांग लगातार बनी हुई है। स्टार्टअप्स और मल्टीनेशनल कंपनियां अपने यहां टेक टैलेंट की संख्या तेजी से बढ़ा रही हैं।’
उन्होंने बताया, ‘नया साल आने के साथ इन क्षेत्रों में कौशल रखने वाले लोगों की फिर से मांग बढ़ेगी। सप्लाई और डिमांड के बढ़ते असंतुलन के चलते इनको अधिक फाइनैंशल रिटर्न मिल सकते हैं।’
इन क्षेत्र के पेशेवरों की एंट्री, मिड और सीनियर सभी लेवल्स पर हायरिंग होंगी। इनको तीन लाख रुपये से एक करोड़ रुपये के बीच सालाना पैकेज ऑफर किया जा सकता है। AI, डेटा साइंस, AWS और ऐनालिटिक्स में अभी 520 से अधिक जॉब ओपनिंग हैं, जिनमें 50 लाख रुपये से एक करोड़ रुपये तक की सैलरी दी जा रही हैं। छोटे पदों पर हायर किए जाने वाले टैलंट्स के लिए 4,500 जॉब ओपनिंग हैं।
एक्सफीनो का सर्वे कहता है कि अधिक सैलरी के ऑफर एक्सेंचर, कैपजेमिनी, IBM, डेल, NVIDIA जैसी बड़ी कंपनियां दे रही हैं। फंडिंग पा चुकी स्टार्टअप्स भी टैलेंट आकर्षित करने की होड़ में लगी हैं और ऑफर के मामले में बड़ी कंपनियों से मुकाबला कर रही हैं।
IT, मैन्युफैक्चरिंग, कंसल्टिंग, ईकॉमर्स और इंडस्ट्रियल सेक्टर की कंपनियों के HR हेड ने इस चलन की पुष्टि की है। एक्सेंचर एडवांस्ड टेक्नोलॉजी सेंटर्स के सीनियर मैनेजिंग डायरेक्टर (इंडिया) मोहन शेखर ने बताया, ‘ग्राहकों की मौजूदा और भविष्य की जरूरतों को पूरा करने के लिए हम 2020 में स्पेशलाइज्ड टैलंट की संख्या बढ़ाने पर जोर देते रहेंगे। हम क्लाउड, डिजिटल, सिक्यॉरिटी, AI, ब्लॉकचेन के साथ 5G और क्वॉन्टम कंप्यूटिंग जैसे उभरते हुए क्षेत्रों में एंप्लॉयीज का कौशल बढ़ाएंगे और नए टैलंट्स की हायरिंग करेंगे।’
श्नाइडर इलेक्ट्रिक ने 2020 में देश में डिजिटल, रोबोटिक्स, AI, ML प्रोफेशनल्स की हायरिंग 40 पर्सेंट बढ़ाने की योजना बनाई है। पिछले साल कंपनी ने इन क्षेत्रों के करीब दो हजार पेशेवरों की भर्ती की थी। श्नाइडर इलेक्ट्रिक इंडिया की HR डायरेक्टर रुनीता वर्मा ने बताया, ‘नए जमाने की प्रौद्योगिकी के लिए टैलंट हायर करने से कंपनी को देश के ऐनालिटिक हब की जरूरतों को पूरा करने में मदद मिलेगी। ग्राहकों की यही मांग है। बिजनेस में इनकी जरूरत बढ़ रही है।’
इन स्किल्स की मांग बढ़ने के कारण कैंडिडेट्स नई नौकरी में 35-60 पर्सेंट सैलरी हाइक की मांग कर रहे हैं। डेटा साइंस और ML जैसे क्षेत्रों के कुछ प्रफेशनल आय में 100 पर्सेंट से अधिक बढ़त तक की मांग रख रहे हैं। डेलॉयट इंडिया के चीफ टैलेंट ऑफिसर एस वी नाथन ने बताया, ‘कई क्लाइंट ऐसी टीम की मांग कर रहे हैं जिसे टेक्नोलॉजी की अच्छी समझ हो। क्लाइंट के साथ सही से काम करने के लिए टेक्नोलॉजी को समझना जरूरी है। उदाहरण के तौर पर यह जानना होगा कि किस तरह ड्रोन की मदद से इनवेंटरी को संभाला जा सकता है? ड्राइवरलेस कार से सड़क सुरक्षा में कैसे सुधार हो सकता है? कंपनी कैसे ऐनालिटिक्स के जरिए एंप्लॉयीज से बेहतर तरीके से जुड़ सकती है?’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *