केरल में मोपला के दंगे ‘जिहाद’ ही था- अधिवक्ता कृष्ण राज

नई द‍िल्‍ली। ‘1921 में हुए मोपला के दंगे की पृष्ठभूमि पहले विश्‍वयुद्ध से ही है। इस दंगे में सरकारी कर्मचारी, पुलिस और तत्कालीन अंग्रेज सैनिकों पर आक्रमण किए गए और हिन्दुओं का बड़ा नरसंहार किया गया। यह दंगा लगभग छः महीने चला। जिहादियों ने घोषणा की क‍ि यह हमारा आंदोलन था और यह हमारी विजय थी परंतु यह आंदोलन नहीं था, अपितु वह हिंदुओं का नरसंहार ही था। मोहनदास करमचंद गांधी ने कहा था क‍ि ‘मोपला दंगे में मुसलमानों ने हिन्दुओं पर अत्याचार किए परंतु ‘हिन्दू-मुसलमान एकता के लिए’ हिन्दू ये अत्याचार सहन करें’। ये गांधी का चौंका देने वाला वक्तव्य था। मोपला दंगा ‘जिहाद’ का ही एक भाग था। सभी दंगाखोरों ने स्वीकार किया था’ क‍ि यह ‘जिहाद’ ही है।

मोपला दंगे पर उक्‍त प्रतिपादन उच्च और सर्वोच्च न्यायालय के अधिवक्ता कृष्ण राज ने किया। वे हिन्दू जनजागृति समिति द्वारा आयोजित ‘मोपला दंगे: हिन्दू नरसंहार के 100 वर्ष!’ के संबंध में ‘ऑनलाइन’ विशेष संवाद के अंतर्गत बोल रहे थे।

इसी व‍िषय पर ‘दि धर्म डिस्पैच’ के संस्थापक-संपादक और लेखक संदीप बालकृष्ण ने कहा कि खिलाफत आंदोलन के नाम पर अली बंधुओं ने अंग्रेजों के विरोध में ‘जिहाद’ कहकर मुसलमानों को एकत्रित किया। अंग्रेजों द्वारा अली बंधुओं को बंदी बनाने के उपरांत मोपला में मुसलमानों ने भयानक नरसंहार किया। इन मोपलों ने केवल दंगे ही नहीं किए, अपितु सुनियोजित पद्धति से हिन्दुओं का सामूहिक हत्याकांड किया। इस दंगे में मुसलमान महिलाएं भी सम्मिलित थीं। खेद की बात यह है कि मोपलाओं के इस नरसंहार को इतिहास में ‘मुसलमानों द्वारा अंग्रेजों के विरोध में क‍िया गया आंदोलन’ लिखा गया और केरल की पाठ्यपुस्तकों में भी यह सिखाया गया परंतु अब इससे संबंधित वास्तविकता सभी के सामने आ रही है।

अन्नपूर्णा फाउंडेशन के अध्यक्ष बिनिल सोमसुंदरम ने कहा कि ‘मोपला नरसंहार में उजागर रूप से हिन्दुओं पर अत्याचार किए गए। इस्लामी सत्ता स्थापित करने के लिए ये दंगे किए गए थे। मोपला दंगे के 100 वर्ष पूर्ण होने के निमित्त केरल के हिंदुओं ने इस दंगे में प्राण खोए हुए पूर्वजों का श्राद्ध किया तथा विविध माध्यमों से जागृति करने का प्रयत्न किया। वर्ष 2018 से शबरीमला आंदोलन के समय से केरल का हिन्दू समाज बिना किसी राजकीय समूह अथवा अन्य किसी का समर्थन न होते हुए भी अब जागृत हो गया है।

हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय प्रवक्ता रमेश शिंदे ने कहा कि हमारे देश में झूठा प्रचार करने का प्रयत्न किया जाता है,ऐसा बताया जाता है क‍ि गोधरा और मुंबई में ही दंगे हुए। हिन्दू जब आक्रमण का प्रतिकार करते हैं तब हिंदुओं को आतंकवादी कहा जाता है। विदेशी इतिहासकार स्टेफन डेल ने लिखा है क‍ि ‘मोपला दंगा‘ जिहाद ही था। डॉ. आंबेडकर ने भी ‘पाकिस्तान ऑर द पार्टिशन ऑफ इंडिया’ इस पुस्तक में लिखा है कि मोपला के दंगे मुसलमानों ने किए थे तथा 1920 में खिलाफत समिति की स्थापना प्रथम केरल के मालाबार में की गई। अंग्रेजों के समय के जिलाधिकारी सी. गोपालन नायर ने भी अपने प्राथमिक अहवाल में इस मोपला दंगे का वर्णन किया है। ऐसा होते हुए भी ‘मोपला दंगे’ का इतिहास छिपाने का प्रयत्न किया जाता है, जिससे हिन्दू समाज अभी भी भ्रम में रहेगा। हिन्दुओं को सतर्क और जागृत रहना चाहिए।
– Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *