मॉनसून सत्र: विपक्ष के हंगामे से मुख्‍यमंत्री योगी बेहद नाराज

लखनऊ। विपक्ष के भारी हंगामे के बाद यूपी विधानसभा के मॉनसून सत्र की कार्यवाही को सोमवार को स्थगित कर दिया गया। इस बीच प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आद‍ित्‍यनाथ विपक्षी सदस्यों के हंगामे को लेकर बेहद नाराज द‍िखे। उन्‍होंने कहा क‍ि यह दुखद है कि असेंबली में अनावश्‍यक अराजकता का माहौल पैदा क‍िया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यहां पर व‍िचार-व‍िमर्श की जगह फालतू की चर्चाएं हो रही हैं।
बता दें कि व‍िधानसभा में सोमवार को कानून-व्‍यवस्‍था को लेकर काफी हंगामा हुआ। इस दौरान यूपी के शेल्‍टर होम सह‍ित कई मुद्दों पर वाद-विवाद हुई। भारी हंगामे के बाद विधानसभा के मॉनसून सत्र की कार्यवाही स्थगित कर दी गई। विपक्ष के हंगामे के बीच अनुपूरक समय में कई अध्यादेश और विधेयक सदन में पेश हुए।
विपक्ष देवरिया कांड की सुप्रीम कोर्ट के जज से जांच करवाने की कर रहा था। सीएम योगी ने देवर‍िया शेल्‍टर होम मामले पर कहा कि उनकी सरकार ने इस केस में तुरंत ऐक्‍शन ल‍िया था। उन्होंने कहा कि यह क‍िसी से छ‍िपा नहीं है कि इस शेल्टर होम को क‍िसकी सरकार में लाइसेंस द‍िया गया।
अपनी बात को आगे रखते हुए उन्‍होंने कहा क‍ि बीजेपी सरकार ने यूपी व‍िधानसभा में अब तक का सबसे बड़ा 4 लाख 28 हजार करोड़ रुपये का बजट पेश किया था। इस बजट का अध‍िकांश भाग व‍िकास कार्यों में खर्च क‍िया जा चुका है। हमारी सरकार में गन्‍ना क‍िसानों को बड़ी राहत म‍िली है।
क्या है देवर‍िया शेल्‍टर होम केस
बता दें कि 5 अगस्त को देवरिया के मां विंध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण एवं समाज सेवा संस्थान द्वारा संचालित बालिका गृह से बिहार के बेतिया की रहने वाली एक बालिका भागकर पुलिस के पास पहुंची थी। बच्ची ने महिला थाने पहुंचकर शेल्टर होम से सेक्स रैकिट संचालित होने का आरोप लगाया था। पुलिस ने संस्था में छापेमारी करके वहां मौजूद महिलाओं, लड़कियों और बच्चों को रेस्क्यू कराया था।
पुलिस ने इसके साथ ही सभी को दूसरी सरकारी संस्था में शिफ्ट करके शेल्टर होम में ताला लगा दिया था। पुलिस ने संस्थान की संचालिका गिरिजा त्रिपाठी, उनके पति मोहन त्रिपाठी और बेटी कंचनलता को गिरफ्तार किया है। इस मामले में अब तक कई पुलिसवालों को भी सस्पेंड किया जा चुका है। साथ ही यूपी सरकार ने इस केस की सीबीआई जांच की सिफारिश की है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »