यूपी की जेलों में बनेंगी Modular kitchen, Chapati Maker से बनेंगी रोटियां

लखनऊ। अंग्रेजों के जमाने से चली आ रही जेल में कैदियों से रोटियां बनवाने की व्यवस्था अब समाप्त हो रही है। इसके बाद जेलों के अंदर रोटियां Modular kitchen में Chapati Maker से बनेंगी। रोटी बनाने से लेकर सब्जी काटने तक का काम मशीन से किया जाएगा।
यूपी में जेल प्रशासन कैदियों और बंदियों की सेहत और सुरक्षा के मद्देनजर Modular kitchen की शुरुआत कर रहा है।
पाकशाला में इलेक्ट्रॉनिक चिमनी लगाई जाएगी जो अंदर का धुआं बाहर निकाल देगी। राजधानी सहित प्रदेश की 27 जेलों में इस व्यवस्था की शुरुआत कर दी गई है। आईजी जेल का कहना है कि जल्द ही यह योजना प्रदेश की सभी जेलों में लागू कर दी जाएगी।
जेलों में खाना पकाने की मौजूदा पारम्परिक व्यवस्था अंग्रेजों की हुकूमत से चली आ रही है। सजायाफ्ता कैदियों को रसोई के कामकाज में लगाया जाता है। करीब दो हजार कैदियों और बंदियों का खाना पकाने की जिम्मेदारी आठ से दस कैदियों को सौंपी जाती है। जेल प्रशासन की ओर से करवाए गए अध्ययन में पाया गया कि रसोई में काम करने वाले कैदी, बाकी कैदियों की अपेक्षा कमजोर और बीमारी के शिकार हो रहे हैं। शासन को इसकी रिपोर्ट भेजने के साथ जेल प्रशासन ने Modular kitchen का प्रस्ताव भी भेजा था। शासन से अनुमति मिलने के बाद जेलों में आधुनिक उपकरणों की मदद से पकवान बनाने की व्यवस्था शुरू की जा रही है।
एक घंटे में 2000 रोटियां तैयार करेगी मशीन
आईजी जेल पीके मिश्र ने बताया कि Modular kitchen में रोटी बनाने के लिए Chapati Maker खरीदे गए हैं। यह मशीन एक घंटे में एक हजार रोटियां तैयार करेगी। ऐसी दो मशीनें सभी जेलों को मुहैया करवाई जा रही हैं।
इसके अलावा आटा गूंथने, लोई बनाने और गेहूं की छनाई के लिए भी मशीनें खरीदी गई हैं। सब्जियां बनाने के लिए पोटैटो पीलर और वेजिटेबल कटर की खरीदारी की गई है। उन्होंने बताया कि इन मशीनों के उपयोग से एक घंटे में दो हजार कैदियों और बंदियों की सब्जी आसानी से तैयार हो जाएगी। इससे समय की बचत के साथ कैदियों को परिश्रम करने से राहत मिलेगी। उन्होंने बताया कि एक साथ एक से दो हजार कैदियों का भोजन बनाने के लिए अब तक पांच से छह घंटे का समय लगता था। इतनी देर तक किचन में काम करने वाले कैदियों की सेहत पर इसका बुरा असर पड़ रहा था। इसे देखते हुए किचन में इलेक्ट्रॉनिक चिमनियां लगवाई जा रही हैं।
राजधानी सहित 27 जेलों में शुरू हो चुकी व्यवस्था
आईजी जेल पीके मिश्र ने बताया कि लखनऊ, मिरजापुर, गाजीपुर, बांदा, प्रतापगढ़, फतेहपुर, हमीरपुर, एटा, मथुरा, फिरोजाबाद, कन्नौज, झांसी, फतेहगढ़, खीरी, हरदोई, रायबरेली, फैजाबाद, गोंडा, बाराबंकी, गोरखपुर, बस्ती, महाराजगंज, बिजनौर, पीलीभीत, बदायूं, कानपुर देहात और सीतापुर की जेलों में Modular kitchen शुरू हो चुका है। बाकी जेलों के लिए मशीनों की खरीद का काम चल रहा है। बहुत जल्द प्रदेश की सभी 101 जेलों में व्यवस्था शुरू हो जाएगी।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »