SCO समिट में आतंकवाद को लेकर मोदी का पाकिस्‍तान पर हमला

बिश्केक (किर्गिस्तान)। SCO (शंघाई सहयोग संगठन) के समिट में पाकिस्तानी पीएम इमरान खान से हाथ तक न मिलाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान पर बिना नाम लिए जोरदार वार किया है।
उन्होंने SCO के सदस्य देशों से आतंकवाद को समर्थन देने वाले राष्ट्रों के खिलाफ एकजुट होने का आह्वान किया। साफ है कि आतंकवाद का समर्थन करने वाले राष्ट्रों की बात कर पीएम मोदी ने अप्रत्यक्ष तौर पर पाकिस्तान को निशाने पर लिया।
उन्होंने कहा, ‘आतंकवाद को समर्थन, प्रोत्साहन और आर्थिक मदद देने वाले राष्ट्रों को जिम्मेदार ठहराना जरूरी है। SCO सदस्यों को आतंकवाद के सफाये के लिए एक साथ आकर काम करना चाहिए।’
पीएम मोदी ने कहगा कि SCO के सभी देशों को आतंकवाद के खिलाफ एक होना होगा। उन्होंने कहा कि आतंकवाद की फंडिंग पर रोक लगाने से लेकर हमें इसके खात्मे तक एक होकर काम करना होगा।
पीएम मोदी ने ‘टेररिज्म फ्री सोसाइटी’ का नारा देते हुए कहा कि मैं हाल ही में श्रीलंका गया था तो वहां भी आतंकवाद का खतरनाक रूप देखने को मिला। पीएम मोदी ने कहा कि आतंक के खिलाफ भारत अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आह्वान करता है।
गौरतलब है कि पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद से ही भारत की ओर से पाकिस्तान को दुनिया में आतंकवाद के मसले पर अलग-थलग करने की कोशिशें की जा रही हैं।
बता दें कि हाल ही में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की ओर जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किया गया था।
रूसी भाषा में शुरू होगी पर्यटन हेल्पलाइन
पीएम मोदी ने कहा कि जल्दी ही रूसी भाषा में पर्यटन हेल्पलाइन शुरू होगी। SCO के सभी देशों के लिए ई-वीजा की सुविधा उपलब्ध है। हम अफगानिस्तान में शांति और स्थिरताा के प्रयासों के साथ हैं।
कहा, भारत मेडिकल टूरिज्म में सहयोग को तैयार
हम सबका विजन हमारे क्षेत्र में स्वस्थ सहयोग को मजबूत करना है। हेल्थ केयर, इकोनॉमिक, ऑलटरनेट एनर्जी जैसे कामों के लिए काम करना होगा। भारत मेडिकल टूरिज्म को बढ़ाने के लिए तत्पर है। बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली की जरूरत है। अक्षय ऊर्जा का भारत छठा और सौर ऊर्जा का पांचवां सबसे बड़ा उत्पादक देश है।
10 श्रेष्ठ रचनाओं का होगा SCO भाषाओं में अनुवाद
भारत की 10 श्रेष्ठ कृतियों का SCO देशों की भाषाओं में अनुवाद किया जाएगा। संस्कृति और साहित्य से समाज में एकता की भावना आती है और इससे कट्टरता पर लगाम कसी जा सकती है।
कनेक्टिविटी पर भी दिया जोर
पीएम मोदी ने कहा कि आधुनिक युग में बेहतर कनेक्टिविटी जरूरी है। हमने चाबहार पोर्ट के अलावा काबुल और कंधार के बीच एयर फ्रेट कॉरिडोर को स्थापना की है। फिजिकल कनेक्टिविटी के साथ-साथ पीपल टू पीपल कॉन्टैक्ट भी महत्वपूर्ण है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *