‘मन की बात’ में मोदी ने चाय बेचने वाले कटक के प्रकाश राव की तारीफ की

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ‘मन की बात’ के जरिए देश के नाम संबोधन किया। इसमें उन्होंने भारत के उन युवाओं को बधाई दी जिन्होंने अपने क्षेत्र में नई उपलब्धियां हासिल कीं। इसके साथ पीएम ने फिट रहने के लिए खेल के प्रति लोगों की बढ़ रही रुचि का भी जिक्र किया। कार्यक्रम में मोदी ने जवाहर लाल नेहरू, वीर सावरकर और महात्मा गांधी को भी याद किया। योग, पर्यावरण दिवस, ईद आदि पर बोलने के साथ पीएम ने चाय बेचने वाले प्रकाश राव नाम के शख्स की तारीफ भी की।
अपने संबोधन में मोदी ने कटक के एक चाय वाले डी प्रकाश राव की तारीफ की। 50 साल से चाय बेच रहे राव ने ‘आशा-आश्वासन’ नाम का एक स्कूल खोल दिया है। जिसमें पास की झुग्गी-बस्तियों के करीब 70 बच्चे आकर पढ़ते हैं। मोदी ने बताया कि राव अपनी आय का 50 प्रतिशत उस स्कूल पर ही खर्च कर देते हैं और पढ़ने आने वाले बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य और भोजन की व्यवस्था करते हैं।
कार्यक्रम में मोदी ने सबसे पहले भारत की उन 6 लड़कियों को बधाई दी, जो 250 से भी ज्यादा दिन ‘नाविका सागर परिक्रमा’ को INSV तारिणी में पूरी दुनिया की सैर कर 21 मई को भारत लौटीं। उनका जिक्र कर मोदी ने कहा, ‘भारत की इन बेटियां ने विभिन्न महासागरों और कई समुद्रों में यात्रा करते हुए लगभग 22,000 नौट समुद्री मील की दूरी तय की। यह विश्व में अपने आप में एक पहली घटना थी। मुझे सभी बेटियों से मिलने और उनके अनुभव सुनने का अवसर मिला।’
इसके बाद पीएम ने महाराष्ट्र के उन आदिवासी युवाओं को बधाई दी जिन्होंने ‘मिशन शौर्य’ के तहत दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माऊंट एवरेस्ट पर चढ़ाई की। मोदी बोले कि कुछ कर गुजरने का इरादा, लीक से हटकर कुछ करने की बात करने वाले भले ही कम हों लेकिन ऐसे लोग प्रेरणा देते हैं।
हाल में ‘स्वच्छ गंगा अभियान’ के तहत बीसीएफ का एक ग्रुप एवरेस्ट पर जाकर वहां से ढेर सारा कूड़ा अपने साथ नीचे लाया था। मोदी ने इस काम की प्रशंसा की। वह बोली कि यह काम प्रशंसनीय होने के साथ-साथ स्वच्छता के प्रति, पर्यावरण के प्रति उनकी लगन को भी दर्शाता है।
पीएम ने राज्यवर्धन सिंह राठौड़ द्वारा दिए गए फिटनेस चैलेंज का भी जिक्र किया। उन्होंने विराट कोहली द्वारा दिए गए चैलेंज पर और लोगों के इससे जुड़ने पर खुशी जाहिर की। मोदी ने कहा कि खेल जीवन के मूल्यों को समझने में मदद करता है। कुछ पुराने खेलों पर चिंता जताते हुए मोदी ने कहा, ‘कई खेल हमें समाज,पर्यावरण आदि के बारे में भी जागरूक करते हैं। कभी-कभी चिंता होती है कि कहीं ये खेल खो न जाएं और तब सिर्फ खेल ही नहीं खो जाएगा, बचपन ही कहीं खो जाएगा और फिर उस कविताओं को हम सुनते रहेंगे।’
कार्यक्रम में मोदी ने नेहरू का जिक्र करते हुए कहा, ‘आज 27 मई है। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू जी की पुण्यतिथि है। मैं पंडित जी को प्रणाम करता हूं।’ इसके बाद मोदी ने वीर सावरकर को भी याद किया। महात्मा गांधी को याद करते हुए मोदी बोले कि उन्होंने पर्यावरण को नुकसान न पहुंचाने की बात कही थी।
योग पर बोलते हुए मोदी ने कहा, ‘संपूर्ण विश्व के लिए 21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाता है और ये सर्व-स्वीकृत हो चुका है। महीनों पहले इसकी तैयारियां शुरू हो जाती हैं। मैं सभी देशवासियों से अपील करता हूं कि वे योग की अपनी विरासत को आगे बढ़ाएं और एक स्वस्थ, खुशहाल और सद्भावपूर्ण राष्ट्र का निर्माण करें।’
रमजान और ईद पर बोलते हुए पीएम ने कहा, ‘अब से कुछ दिनों बाद लोग चांद का इंतजार करेंगे। रमजान के दौरान एक महीने के उपवास के बाद ईद का पर्व जश्न की शुरुआत का प्रतीक है। आशा करता हूं कि ईद का त्योहार सद्भाव के बंधन को और मज़बूती प्रदान करेगा।’
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »