सर्वाइकल स्पाइन के कर्व को नुकसान पहुंचा रहा है मोबाइल फोन

हम में से कई लोगों की दुनिया आजकल स्मार्टफोन्स में बसने लगी है। हम चाहे जहां भी हों, हमारा ध्यान हमेशा फोन में आए कॉल्स, मेसेजस और नोटिफिकेशन चेक करने पर रहता है। तो इससे दिक्कत क्या है? आप कहेंगे कि आप फोन पर जरूरी काम ही तो कर रहे होते हैं। आप अपने फोन इस्तेमाल करने की आदत को कितना भी उचित सिद्ध कर लें, इसके स्वास्थ्य को होने वाले नुकसान को नकार नहीं सकते हैं।
क्या आप जानते हैं, आपका हर समय फोन देखते रहना आपकी रीढ़ की हड्डी को कितना नुकसान पहुंचा रहा है? आजकल ‘टेक्सट नेक’ नाम की बीमारी काफी आम हो गई है। आपको बताते हैं कि यह समस्या क्या है। एक सामान्य मानव सिर का वजन 4.5 किलो से 5.4 किलो तक होता है। जब भी हम फोन देखने के लिए गर्दन नीचे करते हैं, गुरुत्वाकर्षण के कारण सिर पर पड़ने वाला स्ट्रेस लगभग 27 किलो तक हो जाता है। इससे सर्वाइकल स्पाइन के कर्व को काफी नुकसान पहुंचता है। यह स्वास्थ की अन्य परेशानियों का भी कारण बन सकता है। आपकी बॉडी पॉस्चर का असर आपके मूड, व्यवहार और दिमाग पर भी पड़ता है। बार-बार झुकने से आप ज्यादा डिप्रेस हो सकते हैं।
इन समस्याओं से बचना काफी आसान है। बस, आपको ध्यान देना है कि आप सीधे खड़े हों। सोशल साइकॉलजिस्ट्स के मुताबिक कॉन्फिडेंट पोजिशन (जिसमें आपका सिर और कंधे सीधे हों) में खड़े होने से टेस्टोस्टेरॉन और कॉर्टिसोल का फ्लो ठीक तरीके से होता है। इससे ऊपर बताई गई समस्याओं से बचा जा सकता है।
एक्सपर्ट्स का मानना है कि हर समय फोन में व्यस्त होने की आदत लोगों को वास्तविकता से दूर ले जाती है। इतना ही नहीं फोन के लिए सिर नीचे करने की आदत हमारी कम्युनिकेशन स्किल्स को भी खराब करती है। सोशल साइंटिस्ट शेरी टर्कल के अनुसार बच्चे अब अपने पैरंट्स के डिवाइसज से मुकाबला करते हैं। आई कॉन्टैक्ट अब वैकल्पिक हो गया है।
-एजेंसी