मिशन शक्ति: योगी के निर्देश, यूपी के हर थाने में बनाया जाए एक सीक्रेट रूम

लखनऊ। मिशन शक्ति अभियान को एक कदम और आगे बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हर थाने में एक सीक्रेट रूम बनवाने के निर्देश दिए हैं। ये रूम सभी बुनियादी सुविधाओं से लैस होंगे।
पीड़ित महिलाएं इस रूम में महिला पुलिसकर्मी से बिना संकोच अपनी बात कह सकेंगी। यही नहीं, महिला हेल्प डेस्क या सीक्रेट रूम में दिखने वाली किसी जगह पर वे सारे नंबर (1090, 181, 112,1076,1098 व 102) लिखें रहेंगे जिन पर कोई महिला जरूरत पर मदद के लिए कॉल कर सके। नंबरों के साथ इनका दुरुपयोग करने वालों के लिए चेतावनी भी अनिवार्य रूप से अंकित की जाएगी।
मुख्यमंत्री शुक्रवार को अपने सरकारी आवास से ‘मिशन शक्ति’ अभियान के तहत प्रदेश के सभी 1535 थानों पर स्थापित होने वाले महिला हेल्प डेस्क की वर्चुअल शुरुआत कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि महिलाओं के सम्मान को संस्कार बनाना होगा। इसके लिए मिशन शक्ति के इस कार्यक्रम को स्कूलों, कॉलेजों और अन्य संस्थाओं तक ले जाएं। सुबह की प्रार्थना और किसी सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान भी लोगों को इस बाबत जागरूक किया जाए। इसके लिए प्रबुद्ध वर्ग खासकर जागरूक महिलाएं आगे आएं तो नतीजे और बेहतर निकलेंगे।
तिल का ताड़ बनाने वाले आज खुद कठघरे में
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हफ्ते भर के मिशन शक्ति कार्यक्रम के दौरान बहुत कुछ बदला है। पिछले दिनों कुछ घटनाओं को तिल का ताड़ बनाने वाले आज खुद कठघरे में हैं। पुलिस विभाग ने इस दौरान बेहतर काम किया है। अभियान से जुड़े अन्य विभागों की गतिविधियों व भावी कार्ययोजना की समीक्षा मुख्य सचिव और मुख्यमंत्री कार्यालय करे। मिशन शक्ति के इस कार्यक्रम को व्यापक संदर्भों में लिया जाना चाहिए। यह महिलाओं के प्रति लोगों की सोच और संस्कार बदलने वाला अभियान है। ऐसा तभी होगा जब अधिक से अधिक लोग इससे जुड़ेंगे। किसी भी अभियान से जब शासन एवं प्रशासन के साथ समाज भी जुड़ता है तो नतीजे बेहतर होते हैं।
महिलाओं ने सरकार के कदमों को सराहा
वर्चुअल उद्घाटन के दौरान मुख्यमंत्री ने गौतमबुद्धनगर, लखनऊ, वाराणसी, मेरठ और आगरा में बने महिला हेल्प डेस्क में मौजूद कुछ जागरूक महिलाओं और जनप्रतिनिधियों से बात भी की। महिला प्रतिनिधियों ने कहा कि सरकार के इन कदमों में महिलाओं में सुरक्षा और आत्मविश्वास का भाव आया है। मिशन शक्ति से यह प्रक्रिया और आगे बढ़ेगी।
कार्यक्रम की शुरुआत में डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा कि हमारा पूरा प्रयास ‘मित्र पुलिस’ की अवधारणा को साकार करना है। उत्तर प्रदेश को सुरक्षित प्रदेश बनाने में हम कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने अभियान की अब तक की प्रगति से भी मुख्यमंत्री को अवगत कराया। कार्यक्रम का संचालन अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने किया। कार्यक्रम में एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार और शासन स्तर के विभिन्न पुलिस अधिकारी भी मौजूद रहे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *