Asian Games 2018 में भारतीय एथलीटों की किट और ड्रेस का खर्चा खेल मंत्रालय उठाएगा

नई दिल्‍ली। खेल मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि वह Asian Games 2018 में भाग लेने वाले उन एथलीटों की किट और पोशाक का खर्चा उठाएगा जिनका महासंघ भारतीय ओलंपिक संघ से मान्यता प्राप्त नहीं है और जिनका आईओए ने खर्चा उठाने से इन्कार कर दिया है।

खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने ट्वीट किया, ”Asian Games 2018 में भाग लेने वाली किसी भी टीम को किट और पोशाक का खर्चा स्वयं नहीं उठाना पड़ेगा। मैंने @इंडियास्पोर्ट्स @मीडिया_साई को भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली प्रत्येक टीम को किट और पोशाक जारी करने के निर्देश दिये हैं।

इससे पहले आईओए महासचिव राजीव मेहता ने कहा कि खिलाड़ियों की समारोह में पहने जाने वाली पोशाक और खेल की किट का संघ नहीं उठा रहा है। उन्होंने दावा किया कि इसका खर्चा प्रायोजक उठाएंगे जिन्होंने केवल मान्यता प्राप्त महासंघों को पोशाक और किट मुहैया कराने के लिये आईओए से करार किया है। मेहता ने कहा कि आईओए प्रायोजक ली निंग (किट) और रेमंड (समारोह की पोशाक) को उन खिलाड़ियों का भी ध्यान रखने के लिये मजबूर नहीं कर सकता है जो मान्यता प्राप्त नहीं हैं। मेहता ने कहा कि यह स्थापित चलन है कि आईओए गैर ओलंपिक खेलों और जो उनसे मान्यता प्राप्त नहीं हो, उनका खर्चा नहीं उठाता।

उन्होंने इसके साथ ही कहा कि जो महासंघ मान्यता प्राप्त नहीं है उनके खिलाड़ी एडेलवीज के बीमा के तहत भी नहीं आएंगे। मेहता ने कहा, ”हम 540 से अधिक खिलाड़ी और 200 से अधिक अधिकारी भेज रहे हैं और उनकी पोशाक का खर्चा करोड़ों में है तथा आईओए के पास सीमित संसाधन हैं। इसलिए हमने प्रायोजकों के साथ अनुबंध किया है लेकिन वे केवल उन्हीं खिलाड़ियों का ध्यान रखेंगे जिनके महासंघ आईओए से मान्यता प्राप्त हैं। उन्होंने कहा कि 2014 Asian Games में भी आईओए ने खिलाड़ियों की पोशाक का खर्चा नहीं उठाया था।

मेहता ने कहा, ”सभी जानते हैं कि सरकार इन सभी खर्चों को उठाती है। हमारा संगठन धनी नहीं है। भारत एशियाई खेलों में 37 खेलों में भाग ले रहा है इनमें से आठ महासंघ ब्रिज, कुराश, पेनसाक सिलाट, रोलर स्केटिंग, सांबो, सेपकटकरा, सॉफ्ट टेनिस और स्पोर्ट क्लाइंबिंग आईओए से मान्यता प्राप्त नहीं हैं।

आईओए ने अब तक जिन 541 खिलाड़ियों की घोषणा की है उनमें से 114 खिलाड़ी इन खेलों से जुड़े हैं। इनमें से ब्रिज, पेनसाक सिलाट, रोलर स्केटिंग, सेपक टकरा और सॉफ्ट टेनिस को खेल मंत्रालय से मान्यता हासिल है लेकिन कुराश, सांबो और स्पोर्ट्स क्लाइंबिंग के महासंघों का मान्यता हासिल नहीं है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »