रक्षा मंत्रालय ने खारिज की वाइस एडमिरल Bimal Verma की अपील

नई दिल्ली। रक्षा मंत्रालय ने शनिवार को वाइस एडमिरल Bimal Verma की अपील खारिज कर दी। रक्षा मंत्रालय ने वाइस एडमिरल बिमल वर्मा की नौसेना प्रमुख बनाए जाने की चुनौतीपूर्ण नियुक्ति को खारिज कर दिया वो वरिष्ठता के आधार पर नौसेना प्रमुख बनना चाह रहे थे।

एडमिरल वर्मा ने सरकार पर उनकी अनदेखी करने और उनसे जूनियर अधिकारी को चीफ एडमिरल बनाने के फैसले पर सवाल उठाया था। रक्षा मंत्रालय के समक्ष यह याचिका 10 अप्रैल को दायर की गई थी।

एडमिरल वर्मा के मुताबिक वह नेवी में सबसे ज्यादा वरिष्ठ हैं। मगर उन्हें नजरअंदाज करके वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को नौसेना का अगला प्रमुख नियुक्त किया गया है। रक्षा मंत्रालय की संयुक्त सचिव ऋचा मिश्रा ने स्पष्ट किया कि सेवा प्रमुखों की नियुक्ति में वरिष्ठता एक महत्वपूर्ण मापदंड है, लेकिन यह एकमात्र नहीं है, जिस पर चयन किया जा सके। इससे पहले हुई नियुक्तियों में भी ऐसा हुआ है।

एडमिरल वर्मा अन्य मानदंडों में अनुपयुक्त पाए गए : रक्षा मंत्रालय
रक्षा मंत्रालय ने अपने आदेश में कहा, ”केंद्र सरकार ने नेवी प्रमुख का चयन बड़ी सावधानी से किया है। सरकार ने एडमिरल विमल वर्मा की मेरिट को भी देखा है। चयन को लेकर निरंतर चलने वाले अभ्यास और उसके पैरामीटर पर भी उन्हें परखा है। इसके बाद किए गए मूल्यांकन में एडमिरल वर्मा को सबसे सीनियर अधिकारी माना गया, लेकिन नौसेना के प्रमुखों की नियुक्ति के अन्य मानदंडों के लिए वे अनुपयुक्त पाए गए।”

एडमिरल वर्मा ने उठाया था केंद्र सरकार पर सवाल 

एडमिरल वर्मा ने केंद्र सरकार पर सवाल उठाया था कि उनकी वरिष्ठता को नजरअंदाज करके करमबीर सिंह को वाइस एडमिरल नियुक्त किया जा रहा है। इस बारे में 10 अप्रैल को फाइल की गई शिकायत पर डिफेंस मिनिस्ट्री की जॉइंट सेक्रेट्री(नेवी)रिचा मिश्रा ने सफाई दी थी। उन्होंने कहा कि नेवी चीफ की नियुक्ति में वरिष्ठता का ध्यान रखा जाता है मगर ये एकमात्र मानक नहीं हो सकता है। सरकार ने पिछले महीने वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को नौसेना कर्मचारियों के अगले प्रमुख के रूप में नामित किया, एडमिरल सुनील लांबा के उत्तराधिकारी थे, वो 31 मई को सेवानिवृत्त हो रहे हैं।

मंत्रालय की ओर से आगे कहा गया कि चयन के लिए मापदंडों को समान रूप से सभी अधिकारियों पर लागू किया गया था। तमाम मानकों और मूल्यांकन के आधार पर, विमल वर्मा को सबसे वरिष्ठ अधिकारी पाया गया। ऋचा मिश्रा ने अपने आदेश में वर्मा की याचिका को खारिज करते हुए कहा कि केंद्र सरकार इस बात से भी संतुष्ट है कि कोई भी असभ्य, विवादित या अप्रासंगिक विचार का इस पर कोई असर नहीं हुआ है। सरकार ने उनकी अनदेखी की और वाइस एडमिरल करमबीर सिंह को अगले के रूप में नामित किया।

एडमिरल करमबीर सिंह नए कमांडर इन चीफ होंगे
संयुक्त सचिव ऋचा मिश्रा ने कहा कि सरकार अपने फैसले से संतुष्ट है। कोई असंतोष नहीं है। सरकार ने वाइस एडमिरल करमबीर की नियुक्ति में सभी पक्षों पर विचार करने के बाद ही निर्णय लिया है। 31 मई को वर्तमान नौसेना प्रमुख सुनील लांबा सेवानिवृत्त हो रहे हैं। इनके बाद एडमिरल करमबीर सिंह अगले नेवी चीफ होंगे।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »