IAS बी चंद्रकला के लाखों फॉलोअर, लेकिन चंद्रकला करती हैं अखिलेश यादव सहित सिर्फ 10 को फॉलो

नई दिल्‍ली। यूपी में हुए खनन घोटाले में नाम आने और अब ईडी में केस दर्ज होने के बाद आईएएस अफसर बी चंद्रकला (B.Chandrakala IAS) सुर्खियों में हैं.
सोशल मीडिया पर लाखों फॉलोअर के लिए चर्चित आईएएस बी चंद्रकला (IAS B Chandrakala) खुद सिर्फ 10 लोगों को ही ट्विटर पर फॉलो करतीं हैं. इन दस लोगों में ज्यादातर आईएएस हैं.
खास बात यह है कि वह अपने ब्लू टिक हैंडल @ChandrakalaIas से पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) को तो फॉलो करतीं हैं, मगर वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) उनकी फॉलोइंग लिस्ट में नहीं हैं.
बी चंद्रकला उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री कार्यालय (@CMOfficeUP) और यूपी सरकार के ट्विटर हैंडल (@UPGovt) को जरूर फॉलो करतीं हैं. जिसमें सीएम कार्यालय के ट्विटर हैंडल पर सीएम Yogi Adityanath की फोटो लगी है. बी. चंद्रकला (B.Chandrakala)जिन दस ट्विटर हैंडल को फॉलो करतीं हैं, उसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पीएमओ इंडिया, आईएएस एसोसिएशन, ट्विटर वेरिफाइडल के हैंडल हैं. इसके अलावा वह रिटायर्ड आईएएस और भारत सरकार के पूर्व शिक्षा सचिव अनिल स्वरूप, दूरदर्शन, प्रसार भारती की महानिदेशक, आईएएस सुप्रिया साहू, यूपी काडर के आईएएस अफसर अमित गुप्ता को फॉलो करतीं हैं.
चंद्रकला के हैं लाखों फॉलोवर्स
सोशल मीडिया पर चंद्रकला की शोहरत अच्छी-खासी है. बुलंदशहर में ईंट से ईंट तोड़कर निर्माण की गुणवत्ता परखने वाले वीडियो से सुर्खियों में आईं चंद्रकला के सोशल मीडिया पर लाखों फॉलोवर्स हैं. उन्हें कुछ तस्वीरों पर इतने लाइक्स मिल जाते हैं कि उतने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बॉलीवुड के शाहरुख, आमिर और सलमान खान भी मिलकर नहीं बटोर पाते. चंद्रकला के फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल दोनों को वेरीफाइड यानी ब्लू टिक वाले हैं. फेसबुक पर चंद्रकला के 85 लाख से ज्यादा फॉलोवर्स हैं. 18 जनवरी तक चंद्रकला के फेसबुक पेज पर 8,596,990 फॉलोवर्स की संख्या दर्ज है, वहीं ट्विटर पर नौ लाख दो हजार से ज्यादा लोग उन्हें फॉलो करते हैं. 28 अक्टूबर, 2018 को चंद्रकला ने एक तस्वीर फेसबुक पेज पर डाली थी, जिसे दो लाख 60 हजार से ज्यादा लोगों के लाइक्स मिले. अमूमन बॉलीवुड सेलिब्रेटीज की भी किसी एक तस्वीर पर इतने लाइक्स नहीं दिखते.
अखिलेश सरकार में रहीं 5 जिलों की डीएम
समाजवादी पार्टी की अखिलेश यादव सरकार में बी. चंद्रकला के सितारे बुलंद रहे. हमीरपुर, मथुरा, बुलंदशहर, मेरठ सहित पांच प्रमुख जिलों में चंद्रकला जिलाधिकारी (डीएम) रहीं. मेरठ में डीएम रहते हुए बीजेपी नेताओं ने उन पर सपा सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर काम करने का आरोप लगाया था. मार्च, 2017 में जब नई बीजेपी सरकार आई तो बी चंद्रकला ने दिल्ली के लिए प्रतिनियुक्ति मांग ली थी. जिसके बाद, यूपी छोड़कर दिल्ली पहुंचीं. केंद्र सरकार ने उन्हें स्वच्छ भारत मिशन की निदेशक बनाया, फिर वह साध्वी निरंजन ज्योति की निजी सचिव बनीं. पिछले साल, मई में चंद्रकला दोबारा अपने मूल यूपी काडर में लौंटी और माध्यमिक शिक्षा विभाग में विशेष सचिव का चार्ज लीं. चार्ज लेने के बाद से वह स्टडी लीव (शैक्षिक अवकाश) पर हैं.
खनन घोटाले में कैसे फंसी बी चंद्रकला
हमीरपुर में डीएम रहते चंद्रकला पर सपा एमएलसी रमेश मिश्रा सहित कुल 10 लोगों के साथ मिलकर अवैध खनन का आरोप है. इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश पर जांच में जुटी सीबीआई ने शनिवार (5 जनवरी) को उनके अलावा अन्य आरोपियों के ठिकानों पर छापेमारी की. एक जनवरी 2019 को उनके खिलाफ सीबीआई के डिप्टी एसपी केपी शर्मा ने खनन मामले में केस दर्ज किया है.
दरअसल, 31 मई 2012 को यूपी सरकार की ओर से एक ऑर्डर जारी किया गया था. जिसमें जिसमें कहा गया था, जो भी माइनिंग होगी, वो ई टेंडर से होगी लेकिन ये नियम फॉलो नहीं किया गया. हमीरपुर में अवैध खनन के मामले में दो जनवरी को दर्ज एफआई में सीबीआई ने बी चंद्रकला को आरोपी नंबर वन बनाया है. हमीरपुर में डीएम रहते हुए बी चंद्रकला ने अवैध तरीके से खनन के पट्टे आवंटित किए. छापेमारी के दौरान उनके घर से कुछ कागज़ मिले हैं. इसके अलावा एक लॉकर और 2 अकॉउंट से जुड़े कागजात हैं.
आरोपी नंबर टू आदिल खान हैं. आरोप है कि तत्कालीन खनन मंत्री गायत्री प्रजापति के चलते इन्हें खनन की लीज मिली. दिल्ली के लाजपत नगर और लखनऊ में घर है. तीसरे आरोपी हमीरपुर के मोइनुद्दीन हैं. जिनके घर से 12.5 लाख कैश, 1.8 किलो सोना मिला. चौथे आरोपी समाजवादी पार्टी के एमएलसी रमेश मिश्रा, इनके भाई दिनेश कुमार मिश्रा, पांचवा आरोपी हमीरपुर का माइनिंग क्लर्क राम आसरे प्रजापति रहा. छठें आरोपी के तौर पर अंबिका तिवारी पर केस दर्ज हुआ. अंबिका तिवारी रमेश का काम देखता था. सातवे आरोपी के तौर पर संजय दीक्षित पर भी केस दर्ज हुआ है. संजय दीक्षित 2017 में बसपा के टिकट पर चुनाव लड़े थे. संजय के पिता सत्यदेव दीक्षित के घर भी छापेमारी हुई. जालौन के माइनिंग क्लर्क राम अवतार के घर से दो करोड़ कैश और दो करोड़ सोना मिला.
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »