चक्रवाती तूफान FANI को लेकर मौसम विभाग ने दिया 12 घंटे का अलर्ट

नई दिल्‍ली। चक्रवाती तूफान FANI भारतीय मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है कि बंगाल की खाड़ियों से उठने वाला तूफान FANI को लेकर चेतावनी जारी की है। ये तूफान आने वाले 12 घंटों में गंभीर रुप ले सकता है और 24 घंटों के भीतर ये बेहद ही खतरनाक रुप ले सकता है।
एक मई तक इस तूफान की उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ेगा की संभावना है और इसके बाद धीरे-धीरे ये उत्तर-पूर्व की ओर फिर से बढ़ेगा।

मौसम विभाग के अनुसार रविवार रात और सोमवार सुबह तक इस चक्रवाती तूफान के तेज होने की संभावना हैं। उन्होंने बताया कि संभावना है कि ये 30 अप्रैल और 1 मई तक ये तूफान तमिलनाडु और दक्षिण आंध्र तट के पास पहुंच सकता है।

चेन्नई के अधिकारी एस बालचंद्रन ने कहा कि फनी चक्रवाती तूफान 1 मई के बाद अपनी दिशा बदलेगा और उत्तर और उत्तर पूर्व की ओर बढ़ेगा। हालांकि, यह तमिलनाडु तट और दक्षिण आंध्र तट को पार नहीं करेगा।

चक्रवाती तूफान ‘FANI’, बंगाल की खाड़ी और पड़ोस के दक्षिण-पूर्वी खाड़ी के 05:30 बजे तक केंद्रित है, जो त्रिंकोमाली (श्रीलंका) से लगभग 745 किमी पूर्व में, चेन्नई (तमिलनाडु) से 1050 किमी दक्षिण-पूर्व में और तमिलनाडु के दक्षिण-पूर्व दक्षिण-पूर्व में मछलीपट्टनम (आंध्र प्रदेश)। से 1230 किमी दूर है।

मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान फनी को लेकर शुक्रवार को केरल में रेड अलर्ट जारी किया था। हिंद महासागर और उससे सटे बंगाल की खाड़ी में कम दबाव क्षेत्र से बने फनी चक्रवात से केरल के तटवर्ती इलाकों में भीषण तूफान के साथ बारिश की संभावना जताई गई थी। साथ ही मच्छुआरों को तटीय इलाकों से दूर रहने के लिए कहा गया था।

बंगाल की खाड़ी के साथ ही हिंद महासागर के पूर्वी भूमध्यवर्ती इलाके में भी कम दबाव क्षेत्र में ये तूफान बना है। मछुआरों का यह भी कहना है कि वह मौसम विभाग और राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के निर्देशों की अनदेखी नहीं करेंगे, जैसा कि ओखी चक्रवात के दौरान की थी। बता दें कि पिछले साल केरल में ओखी चक्रवात में 89 मछुआरों की जान चली गई थी और सौ से ज्यादा लापता हो गए थे।

-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *