राम मंदिर के लिए हरिद्वार में हुई विश्व हिंदू परिषद के मार्गदर्शक मंडल की बैठक

हरिद्वार। विश्व हिंदू परिषद के मार्गदर्शक मंडल की बैठक बुधवार शाम को उत्तरी हरिद्वार स्थित परमधाम आश्रम में हुई। इसमें केंद्र सरकार को अयोध्या में श्री राम मंदिर के निर्माण के लिए 2022 तक का अल्टीमेटम देते हुए कहा गया कि अगर 2022 तक राम मंदिर का निर्माण नहीं किया गया अथवा इस दिशा में सकारात्मक प्रयास होते नहीं दिखाई दिए तो हिंदू समाज भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ भी मोर्चा खोल देगा।
बैठक के उद्घाटन सत्र में राम मंदिर निर्माण सहित कई मुद्दों पर चर्चा की गई। मंडल के वरिष्ठ सदस्य युगपुरुष स्वामी परमानंद जी महाराज ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए बताया कि सरकार को 2022 तक इसलिए समय दिया गया है क्योंकि राज्यसभा में अभी सरकार के पास बहुमत नहीं है तब तक स्पष्ट हो जाएगा कि यह सरकार अपने वायदों के अनुरूप काम कर रही है अथवा बरगला रही है इसलिए अभी वेट एंड वॉच की स्थिति है।
इससे पहले विश्व हिंदू परिषद की हाई पावर कमेटी की बैठक बुधवार को ही सुबह परमार्थ आश्रम में संपन्न हुई। जिसमें शाम की बैठक के एजेंडे पर चर्चा की गई। इस दौरान केंद्र सरकार से यह मांग भी दोहराई गई कि भव्य राम मंदिर का निर्माण करने के साथ ही देश भर में गायों के संरक्षण के लिए एक कामधेनु आयोग का गठन किया जाए।
बैठक में विश्व हिंदू परिषद के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु, मिलिंद परांडे, स्वामी चिन्मयानंद, स्वामी विश्वेश्वर आनंद महाराज, रविंद्र पुरी महाराज समेत विश्व हिंदू परिषद से जुड़े अनेक संतों और पदाधिकारियों ने भाग लिया।
उन्होंने उम्मीद जताई कि केंद्र सरकार हिंदू जनमानस की उम्मीदों के अनुरूप काम करते हुए सभी प्रस्तावों पर मुहर लगाएगी। इस बीच हरिद्वार से लेकर दिल्ली तक सभी नेताओं की निगाहें 3 बजे की बैठक पर लगी हुई हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »