मिलिए कुंभ में लोगों को जागरूक करने वाले प्लास्टिक बाबा से

रोहितांश शर्मा को लोग अब प्लास्टिक बाबा के नाम से जानते हैं। महाराष्ट्र के नांदेड़ कॉलेज से इंजीनियरिंग करने के बाद उन्होंने किसी मल्टी नेशनल कंपनी में नौकरी के बजाय समाज सेवा को चुना।
पिछले दिनों कुंभ मेले में उन्होंने लोगों के प्लास्टिक के दुष्प्रभावों के बारे में लोगों को जागरूक किया।
उन्होंने प्लास्टिक के खिलाफ सत्याग्रह चलाने की योजना बनाई और इसके लिए कुंभ से बेहतर प्लेटफॉर्म कोई और नहीं हो सकता था, जहां दुनियाभर से श्रद्धालु आकर इकट्ठा हुए थे।
इसके लिए उन्‍होंने और उनके सात स्वयंसेवकों ने मिलकर कुंभ मेले के परिसर में प्लास्टिक प्रदूषण के खिलाफ बड़े पैमाने पर जागरूकता फैलाई। इस दौरान उन्होंने पूरे कुंभ इलाके और गंगा नदी से 250 किलो से ज्यादा प्लास्टिक इकट्ठा किया। फिलहाल प्लास्टिक बाबा और उनके फॉलोअर्स इनमें से रीसाइकल और नॉन-रीसाइकल मटेरियल को छांट रहे हैं।
इसके बाद वह उन्हें स्थानीय कबाड़ी वाले को उचित निदान के लिए दे देंगे। नांदेड़ कॉलेज से इंजिनियरिंग में बैचलर डिग्री हासिल करने के बाद रोहितांश ने पहले थिएटर किया और फिर समाज सेवा के लिए समर्पित हो गए। अपना अनुभव साझा करते हुए रोहितांश ने बताया, ‘हमने एक महीने पहले कुंभ मेले में जाने का फैसला किया था और यहां आकर प्लास्टिक के खिलाफ अभियान चलाया।’
1994 से समाज सेवा की ओर आकर्षित
उन्होंने बताया, ‘श्रद्धालुओं के मन में प्लास्टिक के खिलाफ जागरूकता फैलाने के लिए मुझे कुंभ मेला बेहतर जगह लगी।’ वह बताते हैं, ‘1994 से मैं सामाजिक सेवा की तरफ आकर्षित हुआ था लेकिन मानव स्वास्थ्य पर प्लास्टिक के दुष्प्रभाव पर अध्ययन करने के बाद मैंने देश के अलग-अलग हिस्सों में जाकर लोगों को जागरूक किया।’
प्लास्टिक बाबा की टीम में हैं 7 सदस्य
रोहितांश ने कहा कि वह और उनके स्वयंसेवक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन से प्रभावित हैं। उनकी टीम के एक सदस्य आदित्य सोबती ने बताया, ‘मैं दो साल पहले मुंबई में प्लास्टिक बाबा से मिला और उनके अभियान में शामिल हो गया। हमारी टीम में सात लोग हैं जिसमें तीन प्रयागराज से हैं। हम सभी मिलकर पर्यावरण बचाने के लिए और लोगों को प्लास्टिक के बारे में जागरूक कर रहे हैं।’
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »