संस्कृति के छात्रों ने दृष्टिहीनों के लिए बनाए Mecha-Eye ग्लव्स

मथुरा। संस्कृति यूनिवर्सिटी के छात्रों ने दृष्टिहीनों के लिए Mecha-Eye ग्लव्स बनाए हैं , अब दृष्टिहीन लोग बिना किसी की मदद के न केवल अपनी मंजिल तय कर सकेंगे बल्कि रास्ते में किसी सम्भावित खतरे से भी अपने आपको बचा पाएंगे। संस्कृति यूनिवर्सिटी के इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के मेधावी छात्र अभय राज और मनीष ने बहुत ही कम लागत में Mecha-Eye ग्लव्स तैयार किए हैं। ये Mecha-Eye ग्लव्स पहन कर कोई भी दृष्टिहीन व्यक्ति आसानी से अपनी यात्रा पूरी कर सकेगा तथा सामने दीवार, पेड़, जानवर आदि से भी अपने आपको बचा पाएगा।

छात्र अभय राज और मनीष का कहना है हम लोगों ने अंधे लोगों की परेशानी को दूर करने के लिए ही फ्यूचरिस्टिक मॉडल Mecha-Eye ग्लव्स पर काम किया है। इस काम में हमें मैकेनिकल इंजीनियरिंग संकाय से भी काफी मदद मिली है। इन छात्रों का कहना है कि मेका आई ग्लव्स पहनने के बाद कोई भी दृष्टिहीन व्यक्ति बिना किसी परेशानी के चल-फिर सकेगा। यह मेका आई उसे सम्भावित खतरे से भी आगाह करती रहेगी। छात्रों का कहना है कि मेका आई ग्लव्स की लागत भी बहुत अधिक नहीं है, लिहाजा भविष्य में दृष्टिहीन व्यक्ति इसका अधिकाधिक प्रयोग कर सकेंगे।

कुलाधिपति सचिन गुप्ता का कहना है कि इसे हम छात्रों की बड़ी उपलब्धि मानते हैं। आज लेटेस्ट टेक्नोलॉजी का समय है, इसमें दक्षता हासिल किए बिना सफलता हासिल करना मुश्किल काम है। भविष्य में छात्र-छात्राओं को मुश्किलें न आएं इसके लिए ही संस्कृति यूनिवर्सिटी लगातार बड़े-बड़े शैक्षणिक संस्थानों और विषय विशेषज्ञों से अनुबंध कर रही है। यह खुशी की बात है कि यहां के विद्यार्थी निरंतर कुछ न कुछ तकनीकी प्रयोग कर प्रशंसा पा रहे हैं।

उप-कुलाधिपति राजेश गुप्ता, कुलपति डा. राणा सिंह, ओ.एस.डी. मीनाक्षी शर्मा, विभागाध्यक्ष इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विनय आनंद और विभागाध्यक्ष मैकेनिकल इंजीनियरिंग विसेंट बालू ने छात्र अभय राज और मनीष को इस शानदार उपलब्धि के लिए बधाई देते हुए उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »