मैकडॉनल्ड विवाद: एनसीएलएटी ने किया विक्रम बख्शी को राहत देने से इंकार

नई दिल्ली। मैकडॉनल्ड और विक्रम बख्शी विवाद पर आज एनसीएलएटी ने विक्रम बख्शी को राहत देने से मना कर दिया है। एनसीएलएटी ने फ्रेंचाइजी एग्रीमेंट रद्द करने से मना कर दिया है। अब इस मामले की अगली सुनवाई 21 सितंबर को होगी।
हालांकि, ये अभी साफ नहीं है कि एनसीएलएटी अगली सुनवाई तक आउटलेट खोलने की इजाजत दी है या नहीं।
मैकडॉनल्ड के 169 आउटलेट पर असमंजस बरकरार
कॉन्ट्रेक्ट टर्मिनेट होने के बाद 6 सितंबर तक ही विक्रम बख्शी की कंपनी कनॉट प्लाजा रेस्टोरेंट लिमिटेड (सीपीआरएल) मैकडॉनल्ड की ब्रांडिंग का अपने आउटलेट में इस्तेमाल कर सकती थी लेकिन अभी तक मैकडॉनल्ड और विक्रम बख्शी का विवाद नहीं सुलझ पाया है। इस मामले की सुनवाई एससीएलएटी में चल रही है। ऐसे में मैकडॉनल्ड में काम कर रहे करीब 7000 इम्प्लॉई की नौकरी खतरे में है।
सीपीआरएल अमेरिका की फूड चेन कंपनी की पार्टनर है। दोनों के बीच लंबे वक्त से विवाद चल रहा है।
बता दें एक महीना पहले दिल्ली में सीपीआरएल के 43 आउटलेट्स बंद हो गए थे क्योंकि लोकल अथॉरिटीज ने ईटिंग हाउस लाइसेंस को रिन्यू नहीं किया था। सीपीआरएल नॉर्थ और ईस्ट इंडिया में 169 स्टोर चलाती है।
इस वजह से था विवाद
मैकडॉनल्ड को विक्रम बख्शी के समय पर पेमेंट नहीं करने और क्वालिटी की वजह से प्रॉब्लम थी। 2014 में मैकडॉनल्ड की फ्रेंचाइजी के मैनेजिंग डायरेक्टर पोस्ट से विक्रम बख्शी को हटा दिया था। तभी से बख्शी और मैकडॉनल्ड इंडिया के बीच टकराव चल रहा था।
कर्मचारी अपने भविष्य को लेकर हैं परेशान
मैकडॉनल्ड की फ्रेंचाइजी चला रही कंपनी सीपीआरएल के आउटलेट में काम करने वाले कर्मचारी ने नाम लिखने की शर्त पर
को बताया कि कर्मचारी अपनी नौकरी को लेकर परेशान है क्योंकि कंपनी ने अभी तक कोई जानकारी नहीं दी है कि आगे उन्हें आना है या नहीं? कर्मचारियों को समझ में नहीं आ रहा है कि वह अब क्या करें क्योंकि कंपनी ने कुछ भी साफ नहीं किया है कि आगे क्या होगा।
-एजेंसी