Maratha आंदोलनकारियों ने फिर की हिंसा: CM ने कहा, अराजकता बर्दाश्‍त नहीं

पुणे। Maratha आंदोलनकारियों ने फिर जमकर हिंसा की, बसों में आग लगाई व तोड़फोड़ की हालांकि मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फणनवीस ने कहा- अराजकता बर्दाश्‍त नहीं की जाएगी। महाराष्ट्र में Maratha आरक्षण की मांग कर रहे आंदोलनकारियों ने आज पुणे और नाशिक के बीच जमकर हिंसक प्रदर्शन किया। मोटरसाइकिल पर लाल झंडा लगाए आंदोलनकारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। इससे जी नहीं भरा तो उन्होंने पुणे-नासिक हाइवे पर चाकण के पास रास्ता रोक दिया। इस दौरान यात्रियों से भरी बसों में तोड़फोड़ की गई और बीच हाइवे पर टायर जलाए गए। Maratha आंदोलनकारियों के आगे पुलिस भी बेबस नजर आई। गनीमत रही कि बसों में तोड़फोड़ के दौरान कोई यात्री घायल नहीं हुआ।

उधर, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने रविवार को साफ कर दिया कि Maratha आंदोलन के दौरान केवल प्रदर्शन करने वालों पर दर्ज मुकदमे वापस लिए जाएंगे लेकिन जिन लोगों पर हिंसा फैलाने और पुलिस के साथ मारपीट करने का आरोप है उनपर दर्ज मुकदमे वापस नहीं लिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा किया हुआ तो अराजकता की स्थिति पैदा हो जाएगी।

मुख्यमंत्री ने रविवार को Maratha समाज के कुछ नेताओं के साथ बैठक करने के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान य बात कही

सीएम ने आगे कहा कि राज्य सरकार की तरफ से जो 72,000 कर्मचारियों की भर्ती होने वाली है उसमें मराठा समाज के लोगों के साथ कोई अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। आपको बता दें कि मराठा समाज को आरक्षण देने के मामले पर रिपोर्ट तैयार करने का जिम्मा राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग को सौंपा गया है। सरकार ने आयोग से एक महीने के भीतर रिपोर्ट सौंपने को कहा है। इसके बाद ही मुद्दे का हम निकाल पाना संभव होगा। मुख्यमंत्री ने तब तक के लिए मराठा समाज से संयम बरतने की अपील की।

इस बीच कई Maratha समूहों ने नौ अगस्त को अगस्त क्रांति दिवस के रूप में मनाने के लिए महाराष्ट्र बंद की घोषणा की है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »